Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 2 min read

मॉ क्यों?

मॉ क्यों लगती है
मेरी किलकारी
तुझको अपनी लाचारी
मॉ क्यों करती हो तुम
अपनी बिटिया से ही गद्दारी
मॉ आ जाने दो ना
मुझको भी अपने घर-ऑगन में
खुशबू बिखरा कर रख दूंगी मॉ
मैं तेरे वन-उपवन में
मेरे पीछे फिर-फिर
भंवर करेंगे गुन-गुन गुंजन
तितलियॉ मंडराएंगी और
खुल उठेंगे सारे सुमन
मॉ मेरे रूप में खुद को
तुम कर दो ना साकार
मॉ मुझको भी धरती पर लाने का
कर दो तुम उपकार
मॉ मैं भी तेरी दुनिया में
आना चाहती हूं
तेरी मीठी-मीठी लोरी सुन
सोना चाहती हूं
मॉ मैं तेरे साये तले
पलना चाहती हूं
मॉ मैं तेरी उँगली पकड़
चलना चाहती हूं
मॉ मेरी चाहत है
खोलूं मैं तेरे संग
ऑख-मिचौली
जो हम-तुम संग हों
तो कितनी रंगीली होगी
अपनी भी होली
मॉ रखती जब मैं
डगमग-डगमग कदम
मॉ होती कितनी मैं खुश
जब खिल जाता तेरा मन
मॉ अगर न होती मैं
तेरी लाचारी
कितनी होती मैं
तेरी आभारी
तुम बस मेरी मॉ न होती
तुम तो मेरी दिल-ओ-जॉ भी होती
तुम पर तो ऐसे शतियो जनम
मैं कर देती कुर्बान
मॉ एक बार तो दे देती
मुझे अपनी बेटी बनने का सम्मान
मॉ !मैं खूब समझती हूं
तेरी ये लाचारी
मेरे पीछे पड़ी है
ये जालिम दुनिया सारी
पर मेरी मॉ ऐसी
तो न थी कभी नादान
भाई के जैसा अपने दिल में
दे देती मुझे मुकाम
नहीं कोई शिकायत
न शिकवा करूंगी
मॉ बस आज तुमसे
ये दो बातें कहूंगी
मॉ आज मैं उनको
करना चाहती हूं सलाम
जिसने मेरी मॉ को
बेटी बनने का दिया था सम्मान
जिसने मेरी मॉ को बनाया था
अपनी जीवन का शान
जिसने मेरी मॉ के पूरे
कर दिए थे हर अरमान
जिसने मेरी मॉ के पूरे
कर दिए थे हर अरमान।।।।।।।।।।।।।
।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।
।।।।।।।।।।।।।।।।।कविता

1 Comment · 742 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारा दूर जाना भी
तुम्हारा दूर जाना भी
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
DrLakshman Jha Parimal
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
Buddha Prakash
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
2711.*पूर्णिका*
2711.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
*दशरथ (कुंडलिया)*
*दशरथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति  भर्वे भवे।*
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति भर्वे भवे।*
Shashi kala vyas
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
Sahityapedia
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां  पर आपको उपस्थित ह
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां पर आपको उपस्थित ह
Rj Anand Prajapati
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
जब-जब तानाशाह डरता है
जब-जब तानाशाह डरता है
Shekhar Chandra Mitra
मेरे देश की मिट्टी
मेरे देश की मिट्टी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्यार करने वाले
प्यार करने वाले
Pratibha Pandey
Believe,
Believe,
Dhriti Mishra
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ अप्रैल फ़ूल
■ अप्रैल फ़ूल
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकृति
प्रकृति
Mukesh Kumar Sonkar
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
Sukoon
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...