Sep 20, 2016 · 1 min read

मै इंसान हूँ/मंदीप

मै इंसान हूँ/
मंदीप
मत पूछ जात मेरी मै इंसान हूँ,
मुझे इंसान ही रहने दीजिये।

ना दे मुझे शोहरत इतनी,
मुझे जमीन से ही जूड़ा रहने दीजिये।

सच को सच ही बोलू,
मुझे सच बोलने की हिम्मत तो दीजिये।

रख सकूँ सब को दिल में ,
इतना बड़ा दिल तो दीजिये।

रख सकूँ मान सब का,
एक बार खुशामदीन करने का मोका तो दीजिये।

मत देख किसी को बुरी नजर से,
सब का मान सम्मान तो कीजिये।

ना हो “मंदीप” को गुमान किसी बात का,
मै इंसान हूँ मुझे इंसान ही रहने दीजिय

113 Views
You may also like:
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ
आकाश महेशपुरी
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ख्वाब
Swami Ganganiya
दर्द भरे गीत
Dr.sima
☆☆ प्यार का अनमोल मोती ☆☆
Dr. Alpa H.
पिता
Santoshi devi
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
पिता
Shailendra Aseem
प्यार भरे गीत
Dr.sima
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आ जाओ राम।
Anamika Singh
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...