Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 2 min read

मैं होता डी एम”

मैं होता डी एम”
चारों तरफ बड़ाई होती,
खुशी न होती कम।
आरक्षण गर मुझको मिलता
मैं होता डी एम।

रुपयों से मेरा घर भर जाता
मोटा वेतन आता।
कैसे कब धनवान बन गया
कोई बता न पाता।

अम्बेसडर नीली बत्ती में
दफ्तर रोज धमकता।
जिस पर चाहता रौब गांठता अथवा हड़का सकता।

सिग्नेचर में नखरे करता
कलम दिखाती दम।
आरक्षण मुझको मिलता
तो मैं होता डी एम।

लगन से किया पढ़ाई लेकिन
अब तक कुछ न कर पाया।
ओबर ऐज का समय आ गया
है चेहरा मुरझाया।

बेड़ा गर्क किया आरक्षण
किस्मत हो गयी फेल।
एम फिल तलक पढ़ाई फिर भी बेच रहा हूँ तेल।

दिन भर करता धंधा अपना
शाम को पीता रम।
आरक्षण गर मुझको मिलता
मैं होता डी एम।

कल तक थे जो झुककर मिलते करते रोज हजूरी।
आज वही मुस्करा रहे है,
देख मेरी मजबूरी।

रमई, लोधे,अलगू, फत्ते,
चालीस अंक पे पास।
लाला,ठाकुर,मिसिर,तेवारी,
अस्सी पर भी निराश ।

मुझसे रुस्ट सफलता जबकि मेहनत करते निकला दम।
आरक्षण गर मुझको मिलता
मैं होता डी एम।

कोटे वाले पास हो गए
बन गए सब अधिकारी,
बिना आरक्षण भटक रहे हैं,
लाकर मेरिट भारी।

चारों तरफ है टीना ढाबी,
क्योकि आयी फस्ट।
दिल मसोस केअंकित रह गया,
उसे हुआ अति कष्ट।

घोर निराशा रोज सताती
दुख नहीं होता कम।
आरक्षण गर मुझको मिलता
मैं होता डी एम।

अगड़े भी हैं इसी देश के,उनका भी हो ध्यान,
सारी चीज उन्हें भी चाहिए धन पद घर सम्मान।

कोटे से एतराज नहीं पर सबका हो सतत विकास।
लेकिन इतना भी न कर दो टूटे जीवन आश।

योग्य व्यक्ति की कदर करो
सुन लीजै मेरे पीएम।
आरक्षण मुझको मिलता तो
मैं होता डी एम।

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
ढीठ बनने मे ही गुजारा संभव है।
ढीठ बनने मे ही गुजारा संभव है।
पूर्वार्थ
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
gurudeenverma198
" शिक्षक "
Pushpraj Anant
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
!! शब्द !!
!! शब्द !!
Akash Yadav
प्रभु श्री राम आयेंगे
प्रभु श्री राम आयेंगे
Santosh kumar Miri
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
सत्य कुमार प्रेमी
मुझको मेरा हिसाब देना है
मुझको मेरा हिसाब देना है
Dr fauzia Naseem shad
संकल्प
संकल्प
Davina Amar Thakral
" दौर "
Dr. Kishan tandon kranti
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
Sonam Puneet Dubey
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*प्रणय प्रभात*
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
शेखर सिंह
मै थक गया
मै थक गया
भरत कुमार सोलंकी
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
2551.*पूर्णिका*
2551.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यासा के कुंडलियां (pyasa ke kundalian) pyasa
प्यासा के कुंडलियां (pyasa ke kundalian) pyasa
Vijay kumar Pandey
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
घर की गृहलक्ष्मी जो गृहणी होती है,
घर की गृहलक्ष्मी जो गृहणी होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी
अनिल "आदर्श"
तुम
तुम
Sangeeta Beniwal
Loading...