Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 2 min read

मैं होता डी एम

चारों तरफ बड़ाई होती,खुशी न होती कम।
आरक्षण गर मुझको मिलता मैं होता डी एम।

रुपयों से मेरा घर भर जाता जब मोटा वेतन आता।
कैसे कब धनवान बन गया कोई बता न पाता।
अम्बेसडर नीली बत्ती में दफ्तर रोज धमकता।
जिस पर चाहता रौब गांठता अथवा हड़का सकता।
सिग्नेचर में नखरे करता कलम दिखाती दम।
आरक्षण मुझको मिलता तो मैं होता डी एम।

लगन से किया पढ़ाई लेकिन
अब तक कुछ न कर पाया।
ओबर ऐज का समय आ गया है चेहरा मुरझाया।
बेड़ा गर्क किया आरक्षण किस्मत हो गयी फेल।
एम फिल तलक पढ़ाई फिर भी बेच रहा हूँ तेल।
दिन भर करता धंधा अपना शाम को पीता रम।
आरक्षण गर मुझको मिलता मैं होता डी एम।

कल तक थे जो झुककर मिलते करते रोज हजूरी।
आज वही मुस्करा रहे है,देख मेरी मजबूरी।
रमई, लोधे,अलगू, फत्ते,चालीस अंक पे पास।
लाला,ठाकुर,मिसिर,तेवारी,अस्सी पर भी निराश ।
मुझसे रुस्ट सफलता जबकि मेहनत करते निकला दम।
आरक्षण गर मुझको मिलता मैं होता डी एम।

कोटे वाले पास हो गए बन गए सब अधिकारी,
बिना आरक्षण भटक रहे हैं,लाकर मेरिट भारी।
चारों तरफ है टीना ढाबी,क्योकि आयी फस्ट।
दिल मसोस केअंकित रह गया,उसे हुआ अति कष्ट।
घोर निराशा रोज सताती दुख नहीं होता कम।
आरक्षण गर मुझको मिलता मैं होता डी एम।

अगड़े भी हैं इसी देश के,उनका भी हो ध्यान,
सारी चीज उन्हें भी चाहिए धन पद घर सम्मान।
कोटे से एतराज नहीं पर सबका हो सतत विकास।
लेकिन इतना भी न कर दो टूटे जीवन आश।
योग्य व्यक्ति की कदर करो सुन लीजै मेरे पी एम।
आरक्षण मुझको मिलता तो मैं होता डी एम।
सतीश सृजन, लखनऊ

Language: Hindi
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
manjula chauhan
दिनाक़ 03/05/2024
दिनाक़ 03/05/2024
Satyaveer vaishnav
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम हो जाए जिससे है भाता वही।
प्रेम हो जाए जिससे है भाता वही।
सत्य कुमार प्रेमी
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
सुविचार
सुविचार
Sarika Dhupar
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
"धूप-छाँव" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हमको नहीं गम कुछ भी
हमको नहीं गम कुछ भी
gurudeenverma198
पता नहीं था शायद
पता नहीं था शायद
Pratibha Pandey
The thing which is there is not wanted
The thing which is there is not wanted
कवि दीपक बवेजा
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
VINOD CHAUHAN
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
VEDANTA PATEL
My Guardian Angel!
My Guardian Angel!
Sridevi Sridhar
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
Raat gai..
Raat gai..
Vandana maurya
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
Loading...