Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 1 min read

मैं सड़क हूँ

मैं सड़क हूँ
✍✍✍✍✍✍

स्थिर अस्थिर टूटी-फूटी
निरन्तर घाव सहन करती
एक छोर से दूसरे छोर
कहाँ तलक चली जाती

इंसानियत से हो बेखबर
एक जमाना लिया भोग
उत्थान -पतन गुजरा कब
बदली बिगड़ी तकदीर

इतिहास ने पन्ने है पलटे
सुल्तान आते -जाते देखें
खून-खरावों से मैं नहायी
सुहाग भी उजड़ते देखे

एक फुट तक गहरे घाव
इन घावों पर रोज उछल
हड्डी -पसली हो रहे चूर
आती है तब मेरी सूध

केयर भी होती नैहर जैसी
पर न मिलती खुराक पूरी
तौंदें भरते अपनी – अपनी
यहाँ भी फिफ्टी -फिफ्टी

बारिश में तरबतर सराबोर
जल मग्न रह मचाती शोर
मेरे साथ अनेकों का अस्तित्व
पड़ जाता खतरे जा गढ्ढो

देख भगवाँ अब तू ही देख
दर्द न पाया मैंने किस अंग
फिर जिंदा ही रहूँगी हमेशा
मेरा बने कोई मकबरा न

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
70 Likes · 2 Comments · 1323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
हर जगह तुझको मैंने पाया है
हर जगह तुझको मैंने पाया है
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-125💐
💐अज्ञात के प्रति-125💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
छठ पूजा
छठ पूजा
Damini Narayan Singh
Bachpan , ek umar nahi hai,
Bachpan , ek umar nahi hai,
Sakshi Tripathi
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पीताम्बरी आभा
पीताम्बरी आभा
manisha
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
कृष्णकांत गुर्जर
कौन कितने पानी में
कौन कितने पानी में
Mukesh Jeevanand
#मंगलकामनाएं
#मंगलकामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
नियम, मर्यादा
नियम, मर्यादा
DrLakshman Jha Parimal
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
"नवसंवत्सर सबको शुभ हो..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
Rj Anand Prajapati
Loading...