Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

मैं रचनाकार नहीं हूं

“मैं रचनाकार नहीं हूं”
लिखती हूं कलम से कलमकार नहीं हूं
रचना तो मेरी है पर रचनाकार नहीं हूं
देखा है मैंने स्वप्न प्रभु आप संभालो
हो फिर से रामराज्य प्रभु मार्ग निकालो
सपनों में घूमती हूं मैं साकार नहीं हूं
रचना तो मेरी है पर रचनाकार नहीं हूं
यह द्वंद भाइयों में नहीं होना चाहिए
सब में ही हो प्रभु आप समझाइए
समता हूं मैं कोई आकार नहीं हूं
रचना तो मेरी है पर रचनाकार नहीं हूं
मैं रोशनी सी फिर रही हर नैन चुमके
शब्दों में गढ़ी भावना की ओढ़नी ओढ़े
समझो मुझे स्वरस हूं मैं प्रहार नहीं हूं
रचना तो मेरी है पर रचनाकार नहीं हूं
मैं छू सकूं कविता कि प्रभु एक भी सीढ़ी
क्षमता नहीं मुझ में प्रभु सामर्थ भी नहीं
यह गीत आपका मैं गीतकार नहीं हूं
रचना तो मेरी है पर रचनाकार नहीं हूं
मधु पाठक “मांझी”

Tag: Poem
5 Likes · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
💐प्रेम कौतुक-549💐
💐प्रेम कौतुक-549💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
बताता कहां
बताता कहां
umesh mehra
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
*अयोध्या*
*अयोध्या*
Dr. Priya Gupta
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
2619.पूर्णिका
2619.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
इज़्ज़त
इज़्ज़त
Jogendar singh
बड़ा असंगत आजकल, जीवन का व्यापार।
बड़ा असंगत आजकल, जीवन का व्यापार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
Vishal babu (vishu)
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*महाकाल के फरसे से मैं, घायल हूॅं पर मरा नहीं (हिंदी गजल)*
*महाकाल के फरसे से मैं, घायल हूॅं पर मरा नहीं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...