Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2024 · 1 min read

मैं मुहब्बत के काबिल नहीं हूं।

मैं हूं पतझड़ से गिरता महज पर्ण सा,तेरे ख्वाबों का साहिल नहीं हूं ।
मेरी मंज़िल है आगों से लिपटी हुई मैं मुहब्बत के काबिल नहीं हूं।

मिन्नते आरजू छोड़ दो,,तुम हो दरिया हसीं ख़्वाब की….
तुम मेरी मस्ती की चाह रख, मैं उदासी के काबिल नहीं हूं…..

मेरी धड़कन की चाहत सुनो,वो धड़कता है किसके लिए….
आ रही है यतिमों की लश्कर,मैं लतीफों की मंजिल नहीं हूं।

हो सके तो मेरे इश्क में,तुम भी अदना ग़ज़ल कह सको….
मैं हूं रुत ए गम ए इश्क़ सा,मैं धुआं कोई मुस्तकिल नहीं हूं।।

इश्क़ की यह कहानी सुनो,मुब्तिला था कभी प्यार से….
मैंने मांगा था जिसको यहां,सच में उसके ही काबिल नहीं हूं।

लोग डरते हैं मुझसे बहुत,खुद की रक्षा गुनाह हो गई….
मिल गई उम्रभर की सजा,वरना तो कोई कातिल नहीं हूं।

दीपक झा रुद्रा

27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
दोहा पंचक. . . क्रोध
दोहा पंचक. . . क्रोध
sushil sarna
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
*प्रणय प्रभात*
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
Abhijeet
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अपने दिल की कोई जरा,
अपने दिल की कोई जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
कवि दीपक बवेजा
दिल की हक़ीक़त
दिल की हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
भगवान बुद्ध
भगवान बुद्ध
Bodhisatva kastooriya
मेरे भाव मेरे भगवन
मेरे भाव मेरे भगवन
Dr.sima
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
भोलेनाथ
भोलेनाथ
Adha Deshwal
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Sakshi Tripathi
abhinandan
abhinandan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
Loading...