Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 3 min read

और कितना धैर्य धरू

और कितना धैर्य धरू,
और कितना धैर्य धरू ,
गर्भ से लेकर मरने तक
हम स्त्रियाँ धैर्य ही तो रखती आई हैं।

जब माँ के कोख में भी रहती हूँ,
फिर भी कहाँ सुरक्षित रहती हूँ ।
हर दिन हर एक पल कोख में भी
डर-डरकर ही तो जीती हूँ।
फिर भी धैर्य बनाकर मैं खुद को रखती हूँ।

शायद इस बार हमें नही मारा जाएगा,
शायद इस बार इस संसार में
हमें भी आने दिया जाएगा।
इस उम्मिद को अपने अन्दर जगाकर ,
धैर्य ही तो रखती हूँ मैं।

आते ही इस संसार में,
जब सुनने को यह मिलता है।
बेटी हुई है एक बोझ और बढ़ गई ,
यह सुन मन विचलित होता है,
फिर भी धैर्य ही तो रखती हूँ मैं।

यह सोचकर की शायद माँ-बाप
कुछ समय बाद मुझसे
प्यार करने लगेंगे।
मेरे किलकारियों के साथ
वो भी हँसने लगेंगे।
मेरे डगमगाते कदम पर
वो मेरा हाथ थाम लेंगे ।

मेरी तोतली आवाज सुनकर
माँ की ममता जाग जाएगी।
पर कहाँ मेरे साथ ऐसा हो पाता है!
मैं उनके नजरो में बोझ ही
तो होती हूँ,
और होती हूँ पराया धन उनके लिए ।

जिसे किसी और के घर जाना होता है,
कहाँ अपने होने का मुझे
एहसास कराया जाता है।
और कहाँ मुझे बेटो की तरह
प्यार से पाला जाता है।

इसके बाद भी तो मैं उस घर में,
धैर्य के साथ बनी रहती हूँ ,
माँ-बाप के आगे पीछे घूमती रहती हूँ,
कि शायद उनकी नजरों में
मेरे लिए भी प्यार जाग जाएगा,
और दो बोल मेरे साथ भी
वो प्यार से हमसे बोलेंगे।

इस उम्मिद को जगाए हुए
मै धैर्य ही तो रखती हूँ।
पर ऐसा होता नहीं हैं
और मैं धैर्य के साथ,
जिन्दगी को ऐसे- तैसे ही
काटती जाती हूँ,
और एक बार फिर इस
पराया धन को,
पराये हाथों के बीच
भेज दिया जाता है।

उस समय भी मैं धैर्य को
बनाकर ही तो रखती हूँ।
शायद यह घर मुझे अपना ले ,
पर कहाँ हमारी किस्मत
बदल पाती है,
और वह घर भी मुझे कहाँ
अपना पाती है।

उस घर के लिए भी तो मैं पराया,
हिस्सा ही बनकर रह जाती हूँ।
मैं इनसे क्या शिकायत करूं,
जब मैं जिसका खून थी,
उसने ही मुझे पराया
मान लिया था।
तो इनके लिए मैं पराया
पहले से थी।

मै अपने वज़ूद को तलाशती हुई,
धैर्य के साथ इस घर में भी बनी रहती हूँ,
शायद इस उम्मिद के साथ की,
मै इन्हें प्यार करूँगी ,
तो मुझे भी प्यार मिल जाएगा।

पर ऐसा मेरे साथ कहा हो पाता है।
मैं कहाँ उस घर का हिस्सा बन पाती हूँ
कभी दहेज के नाम पर, तो कभी
सुन्दरता के नाम पर या अन्य कारण
से रोज ही प्रताड़ित होती रहती हूँ।
फिर भी धैर्य बनाकर रखती हूँ।

आय दिन समाचार का
हिस्सा भी तो मैं ही होती हूँ।
कहीं बच्चियों के साथ
बलात्कार हुआ है,
तो कही अधेर उम्र की
महिला के साथ,
कहीं बुढी औरत को भी
नही छोड़ा गया है।
यह सब देख – सुन,
खुन खौलता है,
फिर भी धैर्य ही तो रखती हूँ।

किसी के साथ वर्षो से
शोषण होते आ रहा था,
किसी को विवश कर दिया गया
आत्महत्या के लिए,
किसी लड़के ने किसी लड़की
को छेड़-छाड़ की है,
यह सब खबरे आय दिनो की
मेरी हो गई है।
फिर भी मैं धैर्य ही तो रखती हूँ।

वहाँ बहुए जलाई गई है,
वहाँ बेटी दफनाई गई है,
वहाँ किसी लड़के ने किसी लड़की
पर तेजाब फेक दिया है,
यह सब मैं ही तो सहती हूँ।
फिर भी मैं धैर्य रखती हूँ।

कितने बार मैं टूटी ,
कितने बार बिखरी,
कितने बार मौत के गोद में
जाकर सो गई,
न जाने कितने बार धैर्य रखी,
इसका हिसाब-किताब नही
लगाया जा सकता है।

पर अब मैं पूछना चाहती हूँ ,
माँ-बाप से और समाज से
की मैं और कितना सहूँ ,
और कितना धैर्य रखू ,
और कितना धैर्य धरू।
और कितना धैर्य धरू।

~अनामिका

Language: Hindi
5 Likes · 5 Comments · 342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2856.*पूर्णिका*
2856.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
Kishore Nigam
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
कृष्णकांत गुर्जर
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
सीखने की भूख
सीखने की भूख
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
पास आएगा कभी
पास आएगा कभी
surenderpal vaidya
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-397💐
💐प्रेम कौतुक-397💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मानवता और जातिगत भेद
मानवता और जातिगत भेद
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
!! राम जीवित रहे !!
!! राम जीवित रहे !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
“मंच पर निस्तब्धता,
“मंच पर निस्तब्धता,
*Author प्रणय प्रभात*
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
Loading...