Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2023 · 1 min read

मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ

मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ।
मैं भी मदद तुम्हारी, अब क्यों करुँ।।
सम्मान मुझको, कभी नहीं दिया है।
तुम्हारी कद्र मैं भी, अब क्यों करुँ।।
मैं भी तुम्हारी परवाह——————–।।

मैं कर रहा हूँ आज, तुम्हारे जो साथ में।
तुमने किया है यही, कल मेरे साथ में।।
पूछे नहीं तुमने कभी, क्यों हाल मेरे।
मैं भी तुम्हारे लिए , दुहा क्यों करुँ।।
मैं भी तुम्हारी परवाह——————-।।

रहम मुझपे तुमने, किया नहीं कभी।
बांटे नहीं दुःख मेरे, क्यों तुमने कभी।।
हंसते थे तुम तो बहुत, मेरे आँसू देखकर।
मैं भी तुम्हारे दर्द, दूर क्यों करुँ।।
मैं भी तुम्हारी परवाह——————–।।

मुझको भी ख्वाब मेरे, मुकम्मल करने हैं।
कुछ पल मुझको भी, अब चैन से जीने हैं।।
करनी है रोशनी अब, मुझको भी जीवन में।
बर्बाद खुद को मैं, अब क्यों करुँ।।
मैं भी तुम्हारी परवाह——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
खरी - खरी
खरी - खरी
Mamta Singh Devaa
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
...
...
*Author प्रणय प्रभात*
2962.*पूर्णिका*
2962.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
Kanchan Alok Malu
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
*रानी ऋतुओं की हुई, वर्षा की पहचान (कुंडलिया)*
*रानी ऋतुओं की हुई, वर्षा की पहचान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
कवि दीपक बवेजा
"रंगमंच पर"
Dr. Kishan tandon kranti
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
डुगडुगी बजती रही ....
डुगडुगी बजती रही ....
sushil sarna
" तुम से नज़र मिलीं "
Aarti sirsat
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
- फुर्सत -
- फुर्सत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...