Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2021 · 2 min read

मैं बैठ देखती रही

मैं बैठ देखती रही..
किनारे बैठ उसके अस्तित्व को
उसके निरन्तर बहने की क्रिया को
लगा जैसे चेतना हो उसमें क्योँकि
वह बह रहा था एक संतुलन से उसमें
आरुषि की प्रथम किरण मानो स्वर्ण सा
बिखेर रही हो और उसकी उठती लहरे
किनारे से टकराने से लगा जैसे
इंदुकला निर्निमेष भाव से
धरती पर आनंद फैलाने स्वयम ही उतर आई हो
प्रकृति की सुखद छटा सुख की अनुभूति देती हैं

मैं बैठ देखती रही..
किनारे बैठ उसके अस्तित्व को
कितना हर्ष- उल्लह्वास मन मे होता हैं ये सुहानी छटा देख
आत्मा भाव तरंग रूप में उठते हैं मन को हर्षित करते है
अल्हड़ औ मगन चलता पानी अपनी गति लिए
चलता जा रहा हैं गन्तव्य पर स्वयम में अभिन्नता लिए
तटबन्धों की सीमा में भी निर्बाध चलती हुई
मन को हर्षित करती चलती हैं मानो दुख देने को ही
आविर्भाव हुआ हो कितनी सहज और निर्द्वन्द्व बहती हैं
पवित्र जल धारा स्वयम में जैसे पूर्ण ज्ञानमय हो
सहसा विचार आनंदित करते हैं और चलते हैं

मैं बैठ देखती रही..
किनारे बैठ उसके अस्तित्व को
उसकी सीमाओ में भी उल्ह्वास,हर्ष,मोद की अनुभूति
लगता हैं क्या संभव है पानी को बंधनों की गति में बांधना
क्या संभव है उसकी चिन्मयता को जीवन से अलग देखना
मैं देखती रही उसको दूर तक चलते हुए
बहती नदी की धारा को अविरल भाव पूर्ण रसास्वादन लेते
किनारो पर टकटकी लगाए देखती रही उसको निर्बाध
शांत भाव से मैं वही प्रकर्ति को धन्यवाद देती रही
उसकी कृति को उसकी देने की प्रकृति को
मानो मेरे मन को झकझोर दिया उसने अपने
निर्बाध बहती गति से न रुकने का सबक मिला

Language: Hindi
1 Like · 262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
सच
सच
Neeraj Agarwal
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dr. Mulla Adam Ali
*Broken Chords*
*Broken Chords*
Poonam Matia
जाति
जाति
Adha Deshwal
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
Sunanda Chaudhary
खुदा ने इंसान बनाया
खुदा ने इंसान बनाया
shabina. Naaz
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
Kishore Nigam
गीत- पिता संतान को ख़ुशियाँ...
गीत- पिता संतान को ख़ुशियाँ...
आर.एस. 'प्रीतम'
बापक भाषा
बापक भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
ख़ान इशरत परवेज़
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
किसी भी रिश्ते में प्रेम और सम्मान है तो लड़ाई हो के भी वो ....
किसी भी रिश्ते में प्रेम और सम्मान है तो लड़ाई हो के भी वो ....
seema sharma
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
"गुणनफल का ज्ञान"
Dr. Kishan tandon kranti
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
जीवन में ख़ुशी
जीवन में ख़ुशी
Dr fauzia Naseem shad
*करते हैं पर्यावरण, कछुए हर क्षण साफ (कुंडलिया)*
*करते हैं पर्यावरण, कछुए हर क्षण साफ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ सावधान...
■ सावधान...
*प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...