Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2019 · 1 min read

मैं बदलाव हूँ

मैं कसौधन बदलाव हूँ

यही मेरी पहचान है
मैं कसौधन परिवार हूँ
ईमान मेरा धर्म है
कश्यप की संतान हूँ

सबक सिख कर
सबक सिखा कर
जाना है बहुत दूर
आसमान के पार हूँ

जागरूक हूं सक्षम हूँ
मैं कसौधन की पहचान हूँ
परिवर्तन के इस बेला में
*मैं समाज बदलाव हूँ*

आनंदश्री

Language: Hindi
1 Like · 231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
"दोस्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
विद्यार्थी जीवन
विद्यार्थी जीवन
Santosh kumar Miri
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ याद बन
कुछ याद बन
Dr fauzia Naseem shad
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
कवि दीपक बवेजा
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
Manisha Manjari
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
Ranjeet kumar patre
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
.........
.........
शेखर सिंह
*कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)*
*कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बहुजनों के हित का प्रतिपक्ष रचता सवर्ण सौंदर्यशास्त्र :
बहुजनों के हित का प्रतिपक्ष रचता सवर्ण सौंदर्यशास्त्र :
Dr MusafiR BaithA
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
आर.एस. 'प्रीतम'
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
Loading...