Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2024 · 1 min read

मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )

मैं प्रगति पर हूँ
आदम से आदमी बन गया हूँ
प्राचीन से आधुनिक बन गया हूँ
ना मानवता की फिक्र मुझे
ना प्रकृति की फिक्र मुझे
मैं मनमानी करता हूँ
खुदा तो नहीं हूँ
पर खुदा से कहाँ डरता हूँ
रोज नए-नए प्रयास कर रहा हूँ
प्रकृति का ह्रास कर रहा हूँ
मैं रंगीन शाम चाहता हूँ
नई ख्याति नया नाम चाहता हूँ
अहं ने किया है बेसब्र मुझे
नहीं रहा अब सब्र मुझे
बेशक मैं विकाश कर रहा हूँ
विनाश पर विनाश कर रहा हूँ
दिन-रात कमाता हूँ
जरुरत से ज्यादा ही चाहता हूँ
चाहत ने बनाया व्यग्र मुझे
मिल जाए समग्र मुझे
स्त्रोत सब ध्वस्त कर रहा हूँ
मानवता को पस्त कर रहा हूँ
नफरतों को पालता हूँ
ह्रदयों को सालता हूँ
रिश्तों को ताक पर रखता हूँ
स्वार्थी हूँ जान भी ले सकता हूँ
बारूद के ढेर लगा रहा हूँ
हकीकत सुना रहा हँ
सम्पदा विलुप्त कर रहा हूँ
संवेदना को सुसुप्त कर रहा हूँ
इस बात की है खबर मुझे
मिलनी है एक कब्र मुझे
मैं बहुत दौलत कमा रहा हूँ
हसरतों का मैं अंधा हूँ
दो हाथ कमा रहा हूँ
तो चार हाथ लुटा रहा हूँ
अंजान चाहतों में
खुदा ही नहीं
खुदाई को मिटा रहा हूँ
‘V9द’ मैं अब अति पर हूँ
न जाने कौन सी प्रगति पर हूँ
मैं प्रगति पर हूँ

1 Like · 2 Comments · 52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
युद्ध
युद्ध
Shashi Mahajan
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
गमों को हटा चल खुशियां मनाते हैं
गमों को हटा चल खुशियां मनाते हैं
Keshav kishor Kumar
मनुष्य जीवन है अवसर,
मनुष्य जीवन है अवसर,
Ashwini Jha
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
*प्रणय प्रभात*
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
*चटकू मटकू (बाल कविता)*
*चटकू मटकू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गुरु दक्षिणा
गुरु दक्षिणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
Loading...