Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2022 · 2 min read

मैं पिता हूं।

मैं पिता हूँ -.-.-.-दो👬बच्चों का-.-.-.-.-
रखवाला🕕🕕🕕मैं उनके अच्छे बुरे गुणों का।

वह दोनों तो है मेरे जीवन के अनमोल💎💎💎रतन।।
देखूँ चाहे जितना उनको ना भरते मेरे दोनों👁👁 नयन।।

ना जानें क्या रहता है हर क्षण उनके मन मे कौतूहल🙄🙄🙄!!!
उनके रहने से घर में रहती है बडी चहल- पहल🤸🤸🤸।।।

दोनों बच्चों में है चार 4⃣4⃣4⃣बरस का अंतराल…
बड़ा तो बड़ा है ही छोटा भी है इक 🏄🏄🏄कमाल…

बड़ा🕴🕴🕴पुत्र है
कक्षा दो 2⃣2⃣2⃣में…—…—…—
छोटे का✍✍✍
दाखिला हुआ🅰🆎🅱 नर्सरी में…

पढ़ने में है★★★दोनों ही अच्छे।★★★
पुत्र रूप में ◆◆◆रतन है मेरे बच्चे।●●●

इधर तीन3⃣ चार4⃣वर्षों से★★★पैसों की तंगी है मेरे जीवन में।।
हे ईश्वर,★★★तुझसे मेरी यही प्रार्थना है कमी ना रहे उनके बचपन में।।★■★■★

ह्रदय मेरा व्यथित हो जाता है लेकर उनकी शिक्षा👔👔।।
क्रोध भी कर लेता हूं स्वयं पर जब ना कर पाता उनकी इच्छा।।

पुत्र के लिए पिता ही होता है उनका जग में सब कुछ👓👓👓…
उसी से ही अधिकार से मांगते है वह दुनियाँ में सब कुछ🤹🤹🤹…

कभी-कभी तो बड़ा असहाय मैं स्वयं को पिता के रूप में मैं 👤👤👤महसूस करता हूं।
हृदय द्रवित 🌧🌧🌧हो जाता है जब पुत्रों की अभिलाषा मरतें देखता हूँ।

अपनी निर्धनता के कारण मैं उन पर कभी- कभी😡😠😡चिल्लाता हूँ।।
कोई वस्तु🍦🍨🍦उनके कहने पर जब घर पर ना ला पाता हूँ।।★★■■★

प्रत्येक शाम को वह दोनो👬मेरी प्रतीक्षा करतें है।
मेरे आने पर बड़ी मासूमियत से कुछ🍬🍭🍬लानें का पूंछते है।

अक्सर छोटा वाला ही उत्सुकता से मेरी तरफ देखता है।।
कुछ ना लाने पर वही अपनी बातों के व्यंग्य😜😜😜 मुझ पर फेकता है।।

अब क्या कहे उनका मन कितना कोमल💐💐💐 कितना निश्छल🌹🌹🌹होता है।
फिर से मेरा भी मन जीने को अपना बचपन🤾🤼🤸 होता है।

दोनों की जोड़ी राम लखन👥👥👥की लगती है।
पर दोनों में एक भी क्षण आपस में ना 🤼🤼🤼पटती है।

छोटा वाला घर पर ही चहल🤸🤸🤸पहल करता है।
बड़ा वाला पत्नी🤱🤱🤱की मार खाकर भी बाहर जाने से ना डरता है।

मेरे घर पर रहने से अक्सर वह दोनों शेर🏋🏋🏋बन जाते है।
उनको पता है पिता के रहने से वह माँ की मार डांट 🧟🧟🧟ना खाते है।

अक्सर बड़े 🤹🤹🤹वाले के जन्म दिवस 🎈🎈🎈पर घर पर पैसा ना होता है।
घर पर ही बातों से मनाकर जन्म दिवस फिर पिता ये चुपके से 😭😭😭रोता है।

हर बरस ही उसको बातों से बहलाता हूँ।
एक साइकिल🚴🚴🚴की ख़ातिर उसको कब से टहलाता हूँ।

छोटा वाला👶👶👶भी अब धीरे-धीरे सब समझने लगा है।
कभी-कभी वह भी मुझसे छोटी-छोटी बातों में बड़ी बात 🤫🤫🤫कहने लगा है।

हे ईश्वर, तेरी यह कैसी लीला✍✍✍ है।
देकर मुझको 🚐🚐सबकुछ फिर क्यों⏳⏳छीना है।

उनके रहने से हर क्षण शोभा🌺🌻घर मे रहती है।
खुशियां भी खुश होकर मेरे घर🏘🏘 मे बसती है।

हे ईश्वर,🙏🙏बस मुझको इतना देना की मैं इनकी इच्छा पूरी कर दूं।
बाकी का शेष जीवन अपना इन्ही को समर्पित कर दूं।

आज पड़ोस के घर के दृश्य ने मन मेरा बड़ा द्रवित😭😭😭कर दिया है।
सारे पुत्रों ने मिलकर मात-पिता को उनके ही घर🏚🏚🏚से बहिष्कृत कर दिया है।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 593 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/24.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
सच और हकीकत
सच और हकीकत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🌸हास्य रस घनाक्षरी🌸
🌸हास्य रस घनाक्षरी🌸
Ravi Prakash
जीवन में
जीवन में
ओंकार मिश्र
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिंदगी भी एक सांसों का रैन बसेरा है
जिंदगी भी एक सांसों का रैन बसेरा है
Neeraj Agarwal
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
"मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी"
Ekta chitrangini
"जिरह"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ उत्सवी सप्ताह....
■ उत्सवी सप्ताह....
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रार्थना
प्रार्थना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जितना सच्चा प्रेम है,
जितना सच्चा प्रेम है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
Loading...