Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2022 · 1 min read

मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं

अरे अपनों की तो बात ही क्या
मैं गैरों से मोहब्बत करता हूं
सच कहता हूं इंसान तो क्या
परछाइयों की भी कद्र करता हूं

जग से नहीं कुछ ले जाना है
खाली हाथ सबको जाना है
मैं जो मिल जाए सब्र करता हूं
परछाइयों की भी ……………
क्यों रखते हैं द्वेष भावना
करते क्यों हैं बुरी कामना
मैं इन बातों से बहुत डरता हूं
परछाइयों की भी…………..
बच्चों की बातों पर झगड़े
पति पत्नी में कैसे ये रगड़े
मैं देखके हाए तौबा करता हूं
परछाइयों की भी ……………
युवाओं का जोश खो रहा
नशे में पड़के होश खो रहा
मैं विनोद समझाते भी डरता हूं
परछाइयों की भी ……………

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 347 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
जाते जाते कुछ कह जाते --
जाते जाते कुछ कह जाते --
Seema Garg
बरसात
बरसात
लक्ष्मी सिंह
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सोच
सोच
Srishty Bansal
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
Vaishaligoel
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
gurudeenverma198
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक दीप हर रोज जले....!
एक दीप हर रोज जले....!
VEDANTA PATEL
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
खेतों में हरियाली बसती
खेतों में हरियाली बसती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
उसकी गली तक
उसकी गली तक
Vishal babu (vishu)
कुछ लोगों के बाप,
कुछ लोगों के बाप,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"अन्धेरे"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
विकल्प
विकल्प
Dr.Priya Soni Khare
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
surenderpal vaidya
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"एक दीप जलाना चाहूँ"
Ekta chitrangini
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
Loading...