Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

” मैं तो लिखता जाऊँगा “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल “
==================
कोई पढे या ना पढे
मैं तो लिखता जाऊँगा
कोई सुने या ना सुने
मैं तो कहता जाऊँगा

कभी व्यथाओं के छोर से
मेरी कविता निकलती है
कभी क्रंदन के नोर से ही
मेरी यह स्याही बनती है
कोई पढे या ना पढे
मैं तो लिखता जाऊँगा
कोई सुने या ना सुने
मैं तो कहता जाऊँगा
कभी अपनी भंगिमाओं को
पर्दों पर ही मैं उकेरता हूँ
सुर पहचानना मुश्किल है
फिर भी मैं तो गाता हूँ
कोई देखे या ना देखे
मैं तो करता जाऊँगा
कोई सुने या ना सुने
मैं तो गाता जाऊँगा

बेरोजगारी मंहगायी की बातें
सब दिन मैं ही दुहराता हूँ
फिरभी इन रोगों का इलाज
नहीं मैं कभी कर पाता हूँ
समझे कोई ना समझे
मैं तो कहता जाऊँगा
कोई सुने या ना सुने
मैं तो गाता जाऊँगा
कोई पढे या ना पढे
मैं तो लिखता जाऊँगा
कोई सुने या ना सुने
मैं तो कहता जाऊँगा !!
===============
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल “
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
27.01.2024

Language: Hindi
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जोड़-घटाव"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अगर किसी के पास रहना है
अगर किसी के पास रहना है
शेखर सिंह
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
राज वीर शर्मा
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खामोश किताबें
खामोश किताबें
Madhu Shah
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
#सत्यान्वेषण_समय_की_पुकार
#सत्यान्वेषण_समय_की_पुकार
*प्रणय प्रभात*
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
"पुरानी तस्वीरें"
Lohit Tamta
वक्त जब बदलता है
वक्त जब बदलता है
Surinder blackpen
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धूल के फूल
धूल के फूल
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...