Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

मैं तो अकेली चलती चलूँगी ….

मैं तो अकेली चलती चलूँगी…

मैं तो अकेली चलती चलूँगी, धुन में अपनी मंजिल की।
परवाह नहीं मुझे काँटों की, चाह न किसी बुजदिल की।

छुपकर कितने ही वार करे, ओछी हरकत औ घात करे।
मंशा उजागर हो ही जाती, समय आने पर कातिल की।

बचकर रहना उस कपटी से, बातों में मीठी आ न जाना।
कर्कशता हो काक-सी जिसमें, बानी बोले जो कोकिल की।

मेघ कितने छाएँ गगन में, अस्तित्व न सितारों का मिटता।
ढक ले चाहे कोई कितना, छिपती न योग्यता काबिल की।

अकारण ही जिसने मुझ पर, न जाने कितने जुल्म हैं ढाए ।
ढुलकता है कब आँख से आँसू, देखूँ तो उस संगदिल की।

दे ले चाहे लाख दलीलें, निकल आएँगी बाहर सारी कीलें
हार सुनिश्चित उस वकील की, पैरवी करे जो ऐसे मुवक्किल की।

पाप शमन हो जाते उनके, बस एक नाम नारायण लेने से।
भटक गए जो धर्म से अपने,कथा सिखाती अजामिल की।

समय सब बतला देगा एक दिन,किसकी कितनी है ‘सीमा’
जाने दो जो चाहे कहे वह, क्यूँ फिक्र करूँ उस जाहिल की।

लाख गुनाह छिपा ले अपने, नजर से न उसकी बच पाएगा।
वो जो मालिक है इस जग का, रखता है खबर तिल-तिल की।

बीतेगा जल्द मौसम पतझर का, छाएगी बसंत- बहार।
दूर से आती हवाओं में घुली है, सोंधी सी खुशबू मेपिल की।

© डॉ. सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र. )
मेरे काव्य संग्रह “चाहत चकोर की” से

4 Likes · 236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
उसने क़ीमत वसूल कर डाली
उसने क़ीमत वसूल कर डाली
Dr fauzia Naseem shad
होली गीत
होली गीत
umesh mehra
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ Rãthí
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"संवेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
ਤਰੀਕੇ ਹੋਰ ਵੀ ਨੇ
ਤਰੀਕੇ ਹੋਰ ਵੀ ਨੇ
Surinder blackpen
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
2999.*पूर्णिका*
2999.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ एक विचार-
■ एक विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*छप्पन पत्ते पेड़ के, हम भी उनमें एक (कुंडलिया)*
*छप्पन पत्ते पेड़ के, हम भी उनमें एक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
क्या देखा
क्या देखा
Ajay Mishra
💐Prodigy Love-36💐
💐Prodigy Love-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्राद्ध
श्राद्ध
Mukesh Kumar Sonkar
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
है कौन वो
है कौन वो
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
खेल सारा वक्त का है _
खेल सारा वक्त का है _
Rajesh vyas
Loading...