Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2022 · 1 min read

मैं तेरी आशिकी

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

@ मैं तेरी आशिकी @

रु-ब रु आयेंगे तेरे तुझको ही तुझसे चुरायेंगे
पता भी न चलेगा सनम ऐसी जुगत भिडायेंगे ||

इश्क के खेल में महारत हो ऐसा नहीं होता सखी
आशिकी का फलसफा लेकिन हम भुनायेंगे सखी ||

लाख छुपा लो अरमानों को ये तो छुप न सकेंगे आद्तन
वक्त मिलते ही उभर कर बुद् बुदे से बुद्बुदाएंगे ये सखी ||

चैन से मैं जी रहा था एक अपनी ही मौज में
सामने आकर तुम्ही ने बैचेंन मुझको कर दिया ||

बे नकाब आकर इतरे हिना से भर दिया
हरजाना तो हम अब इसका सनम लेकर ही जायेंगे ||

रु-ब रु आयेंगे तेरे तुझको ही तुझसे चुरायेंगे
पता भी न चलेगा सनम ऐसी जुगत भिडायेंगे ||

युं तो आवारा पन हर किसी को है लुभाता एक दिन
बद्लियाँ क्युं खेलती हैं लुका छिपी चांद के रुखसार से ||

एक खामोशी सी थी पसरी इस अबोध के संसार में
जुल्फ को रुखसार पर गिरा कर मुझको मारा प्यार से ||

1 Like · 356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
■ विचार
■ विचार
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
23/201. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/201. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
आ गया मौसम सुहाना
आ गया मौसम सुहाना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
“मेरी कविता का सफरनामा ”
“मेरी कविता का सफरनामा ”
DrLakshman Jha Parimal
कुछ तो खास है उसमें।
कुछ तो खास है उसमें।
Taj Mohammad
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
*पार्क (बाल कविता)*
*पार्क (बाल कविता)*
Ravi Prakash
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
Srishty Bansal
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
Dr Manju Saini
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
पत्नी की खोज
पत्नी की खोज
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
जल
जल
Saraswati Bajpai
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...