Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2023 · 1 min read

मैं तुम और हम

इकलौता लाडला
सभी का दुलारा
आंख का तारा
न जाने कब
तरुणाई से यौवन की
दहलीज पे पहुंच गया
तुम से टकरा गया
शत प्रतिशत बेमेल
दिल आ गया
भावुकता मे बह कर
कर लिए कुछ वादे
नादान पूरा करने मे
बागी बन जुट गया
सभी को झुका के
तुम को ब्याह लाया
मैं और तुम
हम बने
दो जिस्म एक जान
तुम कुंआ मैं मेढक
तुम ही मेरी दुनियां
कौन आया कौन गया
कौन हंसा कौन रोया
कौन सुखी कौन दुखी
बेमतलब बेपरवाह
हम को तो बस अपने से काम
फिर आया वो दिन
एहसास हुआ
तुम को पाने मे
अपनों से बिछड गया
तुम बा-वजूद
मै तुम में खो कर
बे-वजूद हो गया
हम से मैं को निकालने की
छटपटाहट बेचैनी
गुड़ भरी हंसिया
गले की फांस
कुछ करना होगा
सख्त होना होगा
हम से मैं को
अलग कर देखना होगा
मैं का भी वजूद है
ये जताना होगा

@ अश्वनी कुमार जायसवाल

Language: Hindi
2 Likes · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ashwani Kumar Jaiswal
View all
You may also like:
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
बीज
बीज
Dr.Priya Soni Khare
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
जुल्मतों के दौर में
जुल्मतों के दौर में
Shekhar Chandra Mitra
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
विचार
विचार
Godambari Negi
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*मैं पक्षी होती
*मैं पक्षी होती
Madhu Shah
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
sushil sarna
■ बिल्कुल ताज़ा...
■ बिल्कुल ताज़ा...
*Author प्रणय प्रभात*
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
पहला प्यार सबक दे गया
पहला प्यार सबक दे गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पिछले पन्ने 8
पिछले पन्ने 8
Paras Nath Jha
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
Bidyadhar Mantry
Loading...