Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-49💐

मैं तुम्हें न ढूँढने की कहता रहूँगा,
तुम मुझे न ढूँढने की कहते रहो।

-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2829. *पूर्णिका*
2829. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
प्यार के ढाई अक्षर
प्यार के ढाई अक्षर
Juhi Grover
यादें
यादें
Versha Varshney
रिश्ते
रिश्ते
Harish Chandra Pande
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
मसीहा उतर आया है मीनारों पर
मसीहा उतर आया है मीनारों पर
Maroof aalam
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
डॉ० रोहित कौशिक
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
$úDhÁ MãÚ₹Yá
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
World Tobacco Prohibition Day
World Tobacco Prohibition Day
Tushar Jagawat
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*योग-दिवस (बाल कविता)*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
एतमाद नहीं करते
एतमाद नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...