Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-49💐

मैं तुम्हें न ढूँढने की कहता रहूँगा,
तुम मुझे न ढूँढने की कहते रहो।

-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
58 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
Tarun Prasad
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
*Author प्रणय प्रभात*
महक कहां बचती है
महक कहां बचती है
Surinder blackpen
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
ऐ जोश क्या गरज मुझे हूरो-कसूर से, मेरा वतन मेरे लिए जन्नत से
ऐ जोश क्या गरज मुझे हूरो-कसूर से, मेरा वतन मेरे लिए जन्नत से
Dr. Rajiv
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
चमचम चमके चाँदनी, खिली सँवर कर रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
घोंसले
घोंसले
Dr P K Shukla
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
Life
Life
C.K. Soni
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
Manisha Manjari
मत फेर मुँह
मत फेर मुँह
Dr. Kishan tandon kranti
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
चार कदम चलने को मिल जाता है जमाना
कवि दीपक बवेजा
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किराएदार
किराएदार
Satish Srijan
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
'बुद्ध' ने दिया आम्रपाली को ज्ञान ।
'बुद्ध' ने दिया आम्रपाली को ज्ञान ।
Buddha Prakash
STOP looking for happiness in the same place you lost it....
STOP looking for happiness in the same place you lost it....
आकांक्षा राय
💐प्रेम कौतुक-276💐
💐प्रेम कौतुक-276💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नववर्ष
नववर्ष
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
मैं जिंदगी हूं।
मैं जिंदगी हूं।
Taj Mohammad
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
वाल्मीकि रामायण, किष्किन्धा काण्ड, द्वितीय सर्ग में राम द्वा
वाल्मीकि रामायण, किष्किन्धा काण्ड, द्वितीय सर्ग में राम द्वा
Rohit Kumar
तारीख़ के बनने तक
तारीख़ के बनने तक
Dr fauzia Naseem shad
Loading...