Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

“मैं तुम्हारा रहा”

इश्क़ हमारा अमर कर के अपनी कविताओं में, मैं तुम्हारा रहा,
खो ना जाओ तुम दुनिया की भीड़ कहीं, तुम्हारी यादों को धागे में पिरो के मैं तुम्हारा रहा,
मुझे पागल कहो या दीवाना
मैं पागल दीवाना तुम्हारा रहा,
ख़त्म हो गया है सब, मैं ज़िंदा हो कर भी मारा हुआ हूँ,
पर मेरा एक हिस्सा मेरा प्यार तुम्हारा रहा,
ख़्वाबो में तुम्हें रोज़ मिलता हूँ,
जुल्फों की छाओं में तुम्हारी खो जाता हूँ, काजल में तुम्हारे छुप जाता हूँ, मेरा इश्क़ शायद अब ख़्वाबो तक रहा, इस कदर मैं तुम्हारा रहा,
सच्चा कहो या झूठा, बेवफ़ा कहो या वफ़ा, फिर भी मैं तुम्हारा रहा,
इश्क़ है ऐसा कुछ मेरा
जुदा हो कर भी मैं बस तुम्हारा रहा,
ढूंढ़ने मुझे कभी निकलो तो आसमां की और देखना, सितारा बन तुम्हारी एक ख्वाहिश के लिए टूट जाऊंगा,
क्योंकि मेरे चंदा मैं तुम्हारा रहा।
लोहित टम्टा❤️

1 Like · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
काश
काश
हिमांशु Kulshrestha
मोहल्ले में थानेदार (हास्य व्यंग्य)
मोहल्ले में थानेदार (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
करें उन शहीदों को शत शत नमन
करें उन शहीदों को शत शत नमन
Dr Archana Gupta
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
पेड़ लगाओ तुम ....
पेड़ लगाओ तुम ....
जगदीश लववंशी
*प्यार का रिश्ता*
*प्यार का रिश्ता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
Tarun Singh Pawar
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अपने आँसू
अपने आँसू
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
तो अब यह सोचा है मैंने
तो अब यह सोचा है मैंने
gurudeenverma198
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
3079.*पूर्णिका*
3079.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
Kumar lalit
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
पूर्वार्थ
Loading...