Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

मैं जान लेना चाहता हूँ

मैं जान लेना चाहता हूँ
तुम्हारे बारे में
उस नदी की भांति
उद्गम से लेकर आदि और अनंत तक,

हर वो पड़ाव जब की
कब तुम में कोई दूसरी
नदी आकर मिली

कौन तुम में हाथ धोकर गया,
कौन डूब कर गया, कौन डूब कर तुम में समा गया।

कौन रहा होगा वो जिसने तुमसे
आचमन किया, किसने तुम्हे
अपने पैरो पर उड़ेल कर आगे बढ़ गया

अंतरंग की आग किसने बुझाई तुमसे
कौन तुम्हारे किनारे बैठकर तुम्हे
निहारता रहा,

किसने गुलाब की मदमस्त कलिया डाल तुम्हे
सुवासित किया, गंदी मानसिकता से किसने
तुम्हारा जीना मुहाल किया होगा

विलीन हो गए किसी नदी या समंदर में,
या खो गया अस्तित्व रेगिस्तान में,
कहीं बंजर जमीं की दरारें तो नहीं पी गई तुम्हे

कोई तो रहा होगा इस लंबे सफर में
जो सब विचारों से परे हो तुम में समा गया
होगा और तुम उसमे ..मेरी लालसा थी ये सब
जान लेना, द्रवित कुंठित पिपासा थी

वो सब जान लेने की जो तुम किसी से न कह सके
उद्गम से लेकर आदि और अनंत तक ॥

~ अजीत मालवीया “ललित”
~ Ajeet malviya “Lalit”

गाडरवारा, नरसिंहपुर म०प्र०

Language: Hindi
1 Like · 389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
Kavi Devendra Sharma
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
VINOD CHAUHAN
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
स्वर्ग से सुंदर अपना घर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2775. *पूर्णिका*
2775. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
रात का मायाजाल
रात का मायाजाल
Surinder blackpen
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
Just try
Just try
पूर्वार्थ
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"शब्द-सागर"
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*रखिए जीवन में सदा, उजला मन का भाव (कुंडलिया)*
*रखिए जीवन में सदा, उजला मन का भाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मदद
मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दान देने के पश्चात उसका गान  ,  दान की महत्ता को कम ही नहीं
दान देने के पश्चात उसका गान , दान की महत्ता को कम ही नहीं
Seema Verma
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
कभी कभी पागल होना भी
कभी कभी पागल होना भी
Vandana maurya
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
Loading...