Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ

मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
लोगों को लगता है कि आवारा हो गया हूँ
ज़िंदगी की सीख मिली है मुझे ठोकरों से
अब मैं ख़ुद की तन्हाई का सहारा हो गया हूँ

2 Likes · 503 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌸*पगडंडी *🌸
🌸*पगडंडी *🌸
Mahima shukla
"ऊर्जा"
Dr. Kishan tandon kranti
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
संतुलित रखो जगदीश
संतुलित रखो जगदीश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
DrLakshman Jha Parimal
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मैं सफ़र मे हूं
मैं सफ़र मे हूं
Shashank Mishra
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
शेखर सिंह
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
■ जल्दी ही ■
■ जल्दी ही ■
*प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
घोसी                      क्या कह  रहा है
घोसी क्या कह रहा है
Rajan Singh
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
Loading...