Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,

मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
इक छोटी सी मेरी भी कहानी हो
एक महल बनाऊँ छोटा सा,
जहाँ मेरे पापा राजा और मेरी माँ महारानी हो

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*रखिए जीवन में सदा, उजला मन का भाव (कुंडलिया)*
*रखिए जीवन में सदा, उजला मन का भाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
ऐंचकताने    ऐंचकताने
ऐंचकताने ऐंचकताने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गर्मी
गर्मी
Dhirendra Singh
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुरीयों के बावजूद...
दुरीयों के बावजूद...
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Them: Binge social media
Them: Binge social media
पूर्वार्थ
कभी धूप तो कभी खुशियों की छांव होगी,
कभी धूप तो कभी खुशियों की छांव होगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
shabina. Naaz
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
2. *मेरी-इच्छा*
2. *मेरी-इच्छा*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
तूने कहा कि मैं मतलबी हो गया,,
तूने कहा कि मैं मतलबी हो गया,,
SPK Sachin Lodhi
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
"उड़ान"
Dr. Kishan tandon kranti
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बहुत खुश था
बहुत खुश था
VINOD CHAUHAN
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
कवि रमेशराज
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
🙅ताज़ा सुझाव🙅
🙅ताज़ा सुझाव🙅
*प्रणय प्रभात*
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
एक मैसेज सुबह करते है
एक मैसेज सुबह करते है
शेखर सिंह
बेशर्मी
बेशर्मी
Sanjay ' शून्य'
Loading...