Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

मैं खामोश रहती हूँ

मैं बस खामोश रहती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है
ज़बाँ क़ाबू में रखती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

नहीं सोती हूँ रातों को फ़क़त करवट बदलती हूँ
मैं शब् में तारे गिनती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

पकड़ कर हाथ गैरों का दिखाते राह भी तुम हो
मैं अपनी राह चलती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

बिन झपके पलक मैं तो तुम्हारी राह तकती हूँ
हमेशा रोती रहती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

बहुत से लोग रहते हैं शहर की भीड़ है कितनी
अकेली , मैं तो रहती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

सभी को जाम देते हो , कोई प्यासा नहीं फिर भी
मैं तिश्ना लब भटकती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

बहुत सी अश्क की बूँदें रुकी है मेरी पलकों पर
यही मोती लुटाती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

मरीज़ ए इश्क़ हूँ मेरी दवा तुम भी नहीं देते
अनु मैं टूट जाती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है

अनु सिंह राजपूत

345 Views
You may also like:
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
कबीर की शायरी
Shekhar Chandra Mitra
क्युं नहीं
Seema 'Tu hai na'
पहले प्यार में
श्री रमण 'श्रीपद्'
पढ़ी लिखी लड़की
Swami Ganganiya
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
पिता
Saraswati Bajpai
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
नवगीत
Mahendra Narayan
बिहार एवं बिहारी (मेलोडी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
#धरती-सावन
आर.एस. 'प्रीतम'
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
माँ कालरात्रि
Vandana Namdev
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
“ मेरे सपनों की दुनियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
महामारी covid पर
shabina. Naaz
✍️जिंदगी खुला मंचन है✍️
'अशांत' शेखर
कैसे कहूँ....?
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
*जेलों में जाते नेताजी 【हास्य-व्यंग्य गीतिका】*
Ravi Prakash
लेट्स मि लिव अलोन
gurudeenverma198
मनमोहन जल्दी आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
वक़्त
Mahendra Rai
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
संत की महिमा
Buddha Prakash
Loading...