Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

मैं और मेरा यार

मैं और मेरा यार
नाराज़ थे एक दुसरे से,
ना मैंने कुछ बोला और
ना उसने कुछ सुना,
सिर्फ मैंने आंख उठाई,
और उसने पलक झपकाई
फिर भी लड़ाई हो गई।

356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ Rãthí
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
Subhash Singhai
Stop chasing people who are fine with losing you.
Stop chasing people who are fine with losing you.
पूर्वार्थ
दोहावली...(११)
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
‘बेटी की विदाई’
‘बेटी की विदाई’
पंकज कुमार कर्ण
👌परिभाषा👌
👌परिभाषा👌
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
*अहम ब्रह्मास्मि*
*अहम ब्रह्मास्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-207💐
💐प्रेम कौतुक-207💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शीर्षक - खामोशी
शीर्षक - खामोशी
Neeraj Agarwal
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
बेकसूर तुम हो
बेकसूर तुम हो
SUNIL kumar
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
" कृषक की व्यथा "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आगे बढ़ना है जिन्हें, सीखें चमचा-ज्ञान (कुंडलिया )
आगे बढ़ना है जिन्हें, सीखें चमचा-ज्ञान (कुंडलिया )
Ravi Prakash
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
इश्क़
इश्क़
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
Er.Navaneet R Shandily
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...