Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2023 · 1 min read

मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं

मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
फिर भी उसमें मैं कहीं रहता हूं ।

उसके दिल में जो चोर दरवाजा है
चौकीदार की तरह मैं वही रहता हूं

✍️कवि दीपक सरल

1 Like · 549 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
"मेला"
Dr. Kishan tandon kranti
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
#पर्व_का_सार
#पर्व_का_सार
*प्रणय प्रभात*
नास्तिक सदा ही रहना...
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
Not only doctors but also cheater opens eyes.
Not only doctors but also cheater opens eyes.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मां की प्रतिष्ठा
मां की प्रतिष्ठा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चाय दिवस
चाय दिवस
Dr Archana Gupta
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
डॉ० रोहित कौशिक
जिंदगी का भरोसा कहां
जिंदगी का भरोसा कहां
Surinder blackpen
ये
ये
Shweta Soni
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
जब साथ छोड़ दें अपने, तब क्या करें वो आदमी
जब साथ छोड़ दें अपने, तब क्या करें वो आदमी
gurudeenverma198
21वीं सदी के सपने (पुरस्कृत निबंध) / मुसाफिर बैठा
21वीं सदी के सपने (पुरस्कृत निबंध) / मुसाफिर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
कलम के हम सिपाही हैं, कलम बिकने नहीं देंगे,
कलम के हम सिपाही हैं, कलम बिकने नहीं देंगे,
दीपक श्रीवास्तव
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक  अबोध बालक 😂😂😂
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक 😂😂😂
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
Swati
2398.पूर्णिका
2398.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेटी हूं या भूल
बेटी हूं या भूल
Lovi Mishra
*आओ पौधा एक लगाऍं (बाल कविता)*
*आओ पौधा एक लगाऍं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...