Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2023 · 1 min read

मैं उन लोगो में से हूँ

मैं उन लोगो में से हूँ
जिन्हें आप चाह कर भी
दोबारा अपनी जिंदगी में
हासिल नही कर सकते
डॉ मंजु सैनी

1 Like · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"याद है मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कविता
कविता
Rambali Mishra
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-151💐
💐अज्ञात के प्रति-151💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2912.*पूर्णिका*
2912.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*पाऊँ पद हरि आपके , प्रभु जी करो विचार【भक्ति-कुंडलिया】*
*पाऊँ पद हरि आपके , प्रभु जी करो विचार【भक्ति-कुंडलिया】*
Ravi Prakash
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
मां - स्नेहपुष्प
मां - स्नेहपुष्प
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
Shashi kala vyas
जब पीड़ा से मन फटता है
जब पीड़ा से मन फटता है
पूर्वार्थ
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
Shweta Soni
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
होली है!
होली है!
Dr. Shailendra Kumar Gupta
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
#चाह_वैभव_लिए_नित्य_चलता_रहा_रोष_बढ़ता_गया_और_मैं_ना_रहा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्यूँ भागती हैं औरतें
क्यूँ भागती हैं औरतें
Pratibha Pandey
■ मारे गए गुलफ़ाम क़सम से मारे गए गुलफ़ाम😊
■ मारे गए गुलफ़ाम क़सम से मारे गए गुलफ़ाम😊
*Author प्रणय प्रभात*
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
नित्य करते जो व्यायाम ,
नित्य करते जो व्यायाम ,
Kumud Srivastava
रविवार की छुट्टी
रविवार की छुट्टी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Bachpan , ek umar nahi hai,
Bachpan , ek umar nahi hai,
Sakshi Tripathi
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...