Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

मैं “आदित्य” सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।

मैं “आदित्य” सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
सोचा है दुनिया बदल दुंगा यही सोचकर ख़ुद बदल रहा हूं।।

3 Likes · 2 Comments · 260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
■ परिहास...
■ परिहास...
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
Rekha Drolia
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
shabina. Naaz
मौसम  सुंदर   पावन  है, इस सावन का अब क्या कहना।
मौसम सुंदर पावन है, इस सावन का अब क्या कहना।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
कवि रमेशराज
हमको नहीं गम कुछ भी
हमको नहीं गम कुछ भी
gurudeenverma198
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
मत बनो उल्लू
मत बनो उल्लू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
एहसास
एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
" अब मिलने की कोई आस न रही "
Aarti sirsat
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
"आँख और नींद"
Dr. Kishan tandon kranti
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...