Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

मैं आंसू बहाता रहा,

मैं आंसू बहाता रहा,
तुमने अनजान कर दिया,
जान से ज्यादा मोहब्बत थी,
उस मोहब्बत को बेजान कर दिया।।@निल

228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पता ना चला
पता ना चला
Dr. Kishan tandon kranti
■ सत्यानासी कहीं का।
■ सत्यानासी कहीं का।
*प्रणय प्रभात*
दान गरीब भाई को कीजिए -कुंडलियां -विजय कुमार पाण्डेय
दान गरीब भाई को कीजिए -कुंडलियां -विजय कुमार पाण्डेय
Vijay kumar Pandey
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
संदेह से बड़ा
संदेह से बड़ा
Dr fauzia Naseem shad
वो मेरी कविता
वो मेरी कविता
Dr.Priya Soni Khare
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राज्यतिलक तैयारी
राज्यतिलक तैयारी
Neeraj Mishra " नीर "
पिता
पिता
Dr. Rajeev Jain
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
दो शब्द
दो शब्द
Ravi Prakash
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
बुंदेली दोहे-फदाली
बुंदेली दोहे-फदाली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
3167.*पूर्णिका*
3167.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
Ranjeet kumar patre
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
जो हुआ वो गुज़रा कल था
जो हुआ वो गुज़रा कल था
Atul "Krishn"
आओ,
आओ,
हिमांशु Kulshrestha
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
Dr. Man Mohan Krishna
रैन  स्वप्न  की  उर्वशी, मौन  प्रणय की प्यास ।
रैन स्वप्न की उर्वशी, मौन प्रणय की प्यास ।
sushil sarna
ज़रूर है तैयारी ज़रूरी, मगर हौसले का होना भी ज़रूरी
ज़रूर है तैयारी ज़रूरी, मगर हौसले का होना भी ज़रूरी
पूर्वार्थ
Loading...