Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Oct 2016 · 1 min read

मैंने मन की सुंदरता को देखा है

मैंने मन की सुंदरता को देखा है
सबसे सुंदर अपना प्रियतम लगता है

देखो मुझको प्रिय का कितना प्यार मिला
मेरा गम उसकी आँखों से बहता है

भावों का लहराता जो मन में सागर
मीत मेरा मेरे चेहरे से पढ़ता है

समझ न पाई आज तलक मैं तो इतना
जितना मितवा ने इस मन को समझा है

प्यार ‘अर्चना’ है मेरा तीरथ मंदिर
उसमे ही मुझको अपना रब दिखता है

डॉ अर्चना गुप्ता

1450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
इबादत के लिए
इबादत के लिए
Dr fauzia Naseem shad
राजनीतिक संघ और कट्टरपंथी आतंकवादी समूहों के बीच सांठगांठ: शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
राजनीतिक संघ और कट्टरपंथी आतंकवादी समूहों के बीच सांठगांठ: शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
एक छोटी सी बह्र
एक छोटी सी बह्र
Neelam Sharma
. *प्रगीत*
. *प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
"ईद-मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कविता
कविता
Shiva Awasthi
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
इंसान ऐसा ही होता है
इंसान ऐसा ही होता है
Mamta Singh Devaa
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
ये इंसानी फ़ितरत है जनाब !
ये इंसानी फ़ितरत है जनाब !
पूर्वार्थ
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
माँ
माँ
Anju
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इसमें हमारा जाता भी क्या है
इसमें हमारा जाता भी क्या है
gurudeenverma198
अचानक से
अचानक से
Dr. Kishan tandon kranti
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
रुचि शर्मा
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD CHAUHAN
सम्भव नहीं ...
सम्भव नहीं ...
SURYA PRAKASH SHARMA
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...