Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2023 · 1 min read

मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।

मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैं आसमान हूँ तेरा, मगर तूने मुझे चमकना सिखाया है।।

107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
संवेदना (वृद्धावस्था)
संवेदना (वृद्धावस्था)
नवीन जोशी 'नवल'
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
सब कुछ मिले संभव नहीं
सब कुछ मिले संभव नहीं
Dr. Rajeev Jain
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
Swami Ganganiya
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
श्री कृष्णा
श्री कृष्णा
Surinder blackpen
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
*चांद नहीं मेरा महबूब*
*चांद नहीं मेरा महबूब*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
सावन और साजन
सावन और साजन
Ram Krishan Rastogi
3119.*पूर्णिका*
3119.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" छोटा सिक्का"
Dr Meenu Poonia
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
Anil chobisa
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
Just in case no one has told you this today, I’m so proud of
पूर्वार्थ
कुंडलिया. . .
कुंडलिया. . .
sushil sarna
आलाप
आलाप
Punam Pande
..........?
..........?
शेखर सिंह
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
"" *अहसास तेरा* ""
सुनीलानंद महंत
उम्मीद
उम्मीद
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...