Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2024 · 1 min read

मेहमान

मेहमान

मेहमान बनकर आया था ..
वो एक दिन घर मेरे
बड़े प्यार से अभिवादन
किया था उसका हमने
सोचा था भगवान कृष्ण
आये है सुदामा की कुटी में
दर्शन देकर चले जाएँगे
सप्ताह बीत गया है देखो ,
दिन गिनते – गिनते
काँप रहा है बटुआ मेरा
खर्चे गिनते -गिनते
न परोसने को व्यंजन है
न ही मन में कोई उमंग
क्या अब सुनोगे तुम
जब हम कहेंगे
गैट आउट , मेरे अतिथि , न करो
हम पर इतना जुर्म

22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
sudhir kumar
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
*राम-राम कहकर ही पूछा, सदा परस्पर हाल (मुक्तक)*
*राम-राम कहकर ही पूछा, सदा परस्पर हाल (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हमारे जमाने में साइकिल तीन चरणों में सीखी जाती थी ,
हमारे जमाने में साइकिल तीन चरणों में सीखी जाती थी ,
Rituraj shivem verma
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
बस में भीड़ भरे या भेड़। ड्राइवर को क्या फ़र्क़ पड़ता है। उसकी अप
बस में भीड़ भरे या भेड़। ड्राइवर को क्या फ़र्क़ पड़ता है। उसकी अप
*प्रणय प्रभात*
अर्थार्जन का सुखद संयोग
अर्थार्जन का सुखद संयोग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
Adha Deshwal
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
ruby kumari
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
Shreedhar
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
"दुबराज"
Dr. Kishan tandon kranti
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
Rj Anand Prajapati
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
Loading...