Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2023 · 2 min read

मेहनत की कमाई

लघुकथा

मेहनत की कमाई

“सर, आपके चार समोसे के पचास रुपए होंगे। प्लीज आप चेंज पचास रुपए दीजिए। मेरे पास चिल्हर नहीं है।” प्लेटफार्म नंबर एक पर घूम-घूम कर समोसे बेचने वाले लड़के ने कहा।
“अरे भाई, मेरे पास भी चिल्हर नहीं हैं। देखो, तुम्हारे किसी परिचित के पास हों, तो।” शर्माजी ने कहा।
“ठीक है सर। मैं कोशिश करता हूँ।” लड़के ने कहा।
शर्माजी ने देखा कि वह लड़का दौड़-दौड़ कर वहाँ आसपास में खाने-पीने की चीजें बेचने वाले तीन-चार अन्य लोगों से शर्माजी के द्वारा दिए हुए सौ रुपये के नोट की छुट्टे माँग रहा है।
इस बीच ट्रेन चल पड़ी। लड़का दौड़ते हुए आया और चिल्लाकर बोला, “सर प्लीज अपना विजिटिंग कार्ड फेंकिए या पेटीएम या फोन पे नंबर लिखकर फेंकिए। मैं किसी को बोलकर आपके बचे हुए पैसे लौटा दूँगा।”
शर्मा जी ने अपना विजिटिंग कार्ड नीचे फेंका, जिसे उस लड़के ने उठा लिया।
शर्माजी को सोच में पड़े देख मिसेज शर्मा बोली, “क्या सोच रहे हो ? गए आपके 50 रुपए।”
शर्माजी ने कहा, “कोई बात नहीं मैडम। पचास रुपए का जाना हमारे लिए कोई बड़ी बात नहीं। पर सोचो, हमारे पचास रुपए लौटाने के चक्कर में उस लड़के का कितना समय खराब हुआ। उतने समय में वह कुछ और समोसे बेचकर दो पैसे कमा सकता था। उसकी बॉडी लेंग्वेज से लग रहा है कि वह मेहनती ही नहीं, ईमानदार भी है।”
मिसेज शर्मा व्यंग्यात्मक स्वर में बोली, “हाँ-हाँ, आप तो ठहरे दानवीर कर्ण। आपको तो सभी लोग भले ही लगते हैं। पर मुझे अच्छे से पता है कि अब आपके पचास रुपए मिलने से रहे। भूल जाओ उसे और खाओ चुपचाप समोसे। वरना ये ठंडे हो जाएँगे।”
तभी फोन पर एक मैसेज आया, जो एक अनजान नंबर से उनके पेटीएम पर पचास रुपए जमा होने का था। साथ में एक संदेश भी, “सर, आपके बचे हुए पचास रुपए।”
शर्माजी ने मिसेज शर्मा की ओर विजयी मुस्कान के साथ देखते हुए कहा, “देखा। मैंने कहा था न।”
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
उसने कहा....!!
उसने कहा....!!
Kanchan Khanna
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
They say,
They say, "Being in a relationship distracts you from your c
पूर्वार्थ
हैदराबाद-विजय (कुंडलिया)
हैदराबाद-विजय (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
जाने कहाँ से उड़ती-उड़ती चिड़िया आ बैठी
जाने कहाँ से उड़ती-उड़ती चिड़िया आ बैठी
Shweta Soni
खता कीजिए
खता कीजिए
surenderpal vaidya
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
कवि रमेशराज
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुला आसमान
खुला आसमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
💐प्रेम कौतुक-497💐
💐प्रेम कौतुक-497💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
*Author प्रणय प्रभात*
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
डॉ भीमराव अम्बेडकर
डॉ भीमराव अम्बेडकर
नूरफातिमा खातून नूरी
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
सितारे  आजकल  हमारे
सितारे आजकल हमारे
shabina. Naaz
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
Loading...