Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 3 min read

मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)

एक शहर में एक विद्यालय रहता है जो कि शहर के प्रमुख विद्यालयों में से एक माना जाता है इस विद्यालय में लगभग हजारों की संख्या में बच्चे शिक्षा प्राप्त कर रहे है । बहुत सारे बच्चे विद्यालय से निकल भी गए और अपनी बेहतर जिंदगी जी रहे है। कुछ सरकारी जॉब में उच्च पद पर हैं, कुछ प्राइवेट जॉब में, कुछ बिजनेस कर रहे हैं तो कुछ ऐसे भी हैं जो जैसे तैसे अपना जीवन यापन कर रहे हैं शहर में विद्यालय का काफी बड़ा नाम है ।

यह कहानी दो सहपाठी की है जो कि उसी विद्यालय में कक्षा आठवीं में पढाई करता है राम और श्याम । राम कक्षा का मेधावी छात्र है और श्याम अपने नाम की ही तरह कक्षा में औसत से भी कम स्कोर करने वाला विद्यार्थी है ।

राम मेधावी छात्र होने के कारण उसका कक्षा में अच्छा खासा बनता है उसके बहुत सारे मित्र हैं, कई मित्र इसलिए भी हैं कि वह कक्षा में पढ़ाई थोड़ा कम और शैतानी किया करता है बदले में वह रात को और सुबह सवेरे उठकर पढ़ाई कर लेता है इस मामले में वह बड़ा ही तेजस्वी है और इधर श्याम कक्षा में पढ़ाई के वक्त ध्यान देता पर उतना इसे समझ नहीं आता, रात को थोड़ा बहुत पढ़ाई करता फिर सो जाता है शायद इसलिए परीक्षा में वह औसत नंबर से भी कम स्कोर कर पाता है । अतः कई बच्चे इस मामले में उसका मजाक भी उड़ाते हैं ।

श्याम का मजाक उड़ाया जाता उसके कक्षा के परिणाम के कारण, श्याम अब पहले से ज्यादा मेहनत करने लगा और राम कक्षा में अव्वल आता रहा । इसी प्रकार समय बीता और 10वीं की बोर्ड परीक्षा हुई जिसमें राम सबसे अव्वल आया और श्याम औसत नंबर से दसवीं कक्षा उत्तीर्ण की ।

एक दिन किसी कारणवश राम और श्याम में झगड़ा हो गई । इस बार राम और उसके मित्रों द्वारा श्याम का भारी मजाक उड़ाया जाता है जोकि श्याम के हृदय में चुभ जाती है अब श्याम ने बदला लेने की सोची

ऐसा कहा जाता है

दुनिया की ज्यादातर बड़ी जंग बदला लेने के लिए ही हुई

अब श्याम कड़ी मेहनत कर राम से आगे निकलना चाहता है और इधर राम का मन इस सांसारिक मोह माया में पड़ जाता है अक्सर इसका परिणाम होता है समय की बर्बादी जो कि बाद में इसका महत्व समझ में आता है समय बीता, कुछ समय बाद राम को लगा मैं त्रुटिपूर्ण राह पर चल रहा हूं फिर इसे त्यागा और पढ़ाई में लग गया अब उसे पढ़ाई में पहले इतना मन नहीं लगता है उधर श्याम कड़ी मेहनत करता रहता है ।

समय बीता फिर 12वीं की परीक्षा हुई इस बार श्याम सबसे आगे ही नहीं बल्कि जिला में प्रथम स्थान प्राप्त किया और राम का नाम विद्यालय में तीसरा स्थान तक भी नहीं आया। इस बार राम दुखी होता है और श्याम बहुत ही प्रसन्न।
अब दोनों विद्यालय से निकल गए और दोनों अपना-अपना फील्ड चुनकर कड़ी मेहनत कर आगे बढ़ने लगे ।

समय बीता कई साले बीती, अब राम कड़ी मेहनत कर मिलिट्री ऑफिसर बन गया और उसके कुछ वर्षों बाद श्याम देश का राष्ट्रपति बन जाता है जो कि देश के तीनों सेनाओं का प्रमुख होता है ।

शिक्षा:- हमें कभी भी किसी की स्थिति परिस्थिति देखकर मजाक नहीं उड़ाना चाहिए, समय बदलते देर नहीं लगती । जरूरी नहीं है आज जो आप से पीछे है वह कल आपसे आगे नहीं आ सकता और हमें इस सांसारिक मोह माया को छोड़ अपने लक्ष्य के लिए संघर्ष करते रहना चाहिए क्योंकि परिणाम देर से ही सही, पर मिलती जरूर है ।

कवि & लेखक :- अमरेश कुमार वर्मा

यहां तक ध्यानपूर्वक पढ़ने के लिए हृदय तल से धन्यवाद
💝💝💝🌼🌼🌼💝💝💝🌼🌼🌼💝💝💝

#अमरेश_कुमार_वर्मा #कहानी
#प्रेरकप्रसंग #शिक्षाप्रद_कहानी

Language: Hindi
599 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Hum khuch din bat nhi kiye apse.
Hum khuch din bat nhi kiye apse.
Sakshi Tripathi
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रियवर
प्रियवर
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
-- फिर हो गयी हत्या --
-- फिर हो गयी हत्या --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
Sampada
आईना सच कहां
आईना सच कहां
Dr fauzia Naseem shad
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
कृष्णकांत गुर्जर
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
*Author प्रणय प्रभात*
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
Kshma Urmila
बदले नजरिया समाज का
बदले नजरिया समाज का
Dr. Kishan tandon kranti
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
एक नारी की पीड़ा
एक नारी की पीड़ा
Ram Krishan Rastogi
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
Rajendra Kushwaha
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
पेटी वाला बर्फ( बाल कविता)
पेटी वाला बर्फ( बाल कविता)
Ravi Prakash
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
शेखर सिंह
शहर माई - बाप के
शहर माई - बाप के
Er.Navaneet R Shandily
3129.*पूर्णिका*
3129.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
कवि दीपक बवेजा
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
Loading...