Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 2 min read

मेवाडी पगड़ी की गाथा

सुनी सुनाई बात है, आज तुमे सुनाने लाया हुँ
मेवाडी पगड़ी की गाथा, तुमे दिखाने आया हुँ
मैनार् गाव मेवाड बसे, मैनारियों की रण नीति बतलाता हुँ
सुनी सुनाई गाथा है, आज ये गौरव गाथा सुनता हूँ

मेवाडी माटी पर जब, गोर अँधेरा छाया था
मेवाडी शेरों से, मुगलो का टीडी दल टकराया था
हल्दी गाटी मे समर, चेतक ने खूब नचाया था
गायल हुए राणा को, नाला कुद पार पहुचाया था

मुगलो ने आतंक तब मेवाड मे खुब मचाया था
गायल शेर के पीछे, जंगली बाजो को लगाया था
आतंक देख मुगलो का, तब कोई पास नहीं आया था
गायल् शेर ने बाजो को, जंगल जंगल गुमाया था

तब मेवाडी पगड़ी का मान, मैनार् ने बचाया था
गायल् राणा को मैनारियो, ने मुगलो से छिपाया था
जयचंन्दो ने राणा की पहचान, अकबर को बतलाई थी
अकबर की सेना मैनारियो से, मैनार् मे राणा को लेने आई थी

सौगंध है महाकाल की, एकलिंग के दीवान को आच नही आपाये
आये जो मुगली सेना मैनार्, तो एक भी मुगल जिन्दा न जाने पाये
स्वाभिमान है राणा, अभिमान है राणा, मेवाडी पगड़ी शान है राणा
एक भी मुगल महाराणा को हाथ जो लगा पाये तो जिन्दा नहीं जाये

रण के बादल छाये, गाँव बीच सभा लगाई तब रण नीति बनाई
बच्चे, बुढे, महिला सभी को, युद्ध लड़ने की नई कला बतलाई
होली के ढोलो के डंकों से, सभी को एक साथ साथ चलाजाए
समल कर भेद हमारा न खुल याजे, जिन्दा मुगल एक न बच पाए

मुगली शाही सेना को दावत है, एक घर एक सैनिक का अभिनंदन है
प्रथम ढोल के डंकों पर भोजन, एक साथ साथ थाल लगाई गई
दूसरे ढोल के डंकों पर भोजन, एक साथ साथ थाल हटाई गई
तीसरे ढोल के डंकों पर सैनिक कि, एक साथ गर्दन चटकाई गई

पूरी मुगली शाही सेना मे, एक भी जिन्दा नहीं बच पाया था
फिर कभी मेवाड धरा पर, मुगलो ने अपना कदम नहीं उठाया था
मेवाडी पगड़ी की शान, मैनार् में अपने रण कोशल से सजाया था
महाराणा तब से मैनार् को, स्वतन्त्र रूप में बिना कर अपनाया था

अनिल चौबिसा

Language: Hindi
103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
कवि दीपक बवेजा
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
Dr Archana Gupta
शबे दर्द जाती नही।
शबे दर्द जाती नही।
Taj Mohammad
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
सरकार के सारे फ़ैसले
सरकार के सारे फ़ैसले
*Author प्रणय प्रभात*
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
Phool gufran
पूर्णिमा की चाँदनी.....
पूर्णिमा की चाँदनी.....
Awadhesh Kumar Singh
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
फितरत
फितरत
Surya Barman
Jindagi ka safar bada nirala hai ,
Jindagi ka safar bada nirala hai ,
Sakshi Tripathi
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
*कागज की नाव (बाल कविता)*
*कागज की नाव (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आपकी सोच जैसी होगी
आपकी सोच जैसी होगी
Dr fauzia Naseem shad
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
Sunita Gupta
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
Neelam Sharma
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...