Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।

#काव्योदय
गज़ल

1222……1222…….1222……1222
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
नज़र अंदाज़ कर नज़रें तेरी आघात करती हैं।

तुम्हारी इक नजर मुझको तबस्सुम से नहीं है कम,
जो नज़रें देखती मुझको बड़ी सौगात करती हैं।

कहां अब चैन आता है तुझे देखे बिना मुझको,
न देखें गर मेरी आंखें बहुत बरसात करती हैं।

किसी की इक नज़र से जिंदगी बनती बिगड़ जाती,
तुम्हारी नज़रें तो खुशियों की बस बारात करती हैं।

मैं प्रेमी हूं तुम्हें पाने की रहती लालशा हरदम,
तमन्नाएं मेरे दिल की दुआ दिन रात करती हैं।

……….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Neelam Sharma
आदमी की संवेदना कहीं खो गई
आदमी की संवेदना कहीं खो गई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अहोभाग्य
अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बुंदेली_मुकरियाँ
बुंदेली_मुकरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
यादों में ज़िंदगी को
यादों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
Ram
Ram
Sanjay ' शून्य'
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
आप ही बदल गए
आप ही बदल गए
Pratibha Pandey
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
Praveen Sain
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
"चुनाव"
Dr. Kishan tandon kranti
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
शेखर सिंह
"सत्ता से संगठम में जाना"
*Author प्रणय प्रभात*
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
Mahender Singh
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
प्रदाता
प्रदाता
Dinesh Kumar Gangwar
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
बसंत हो
बसंत हो
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सुन लिया करो दिल की आवाज को,
सुन लिया करो दिल की आवाज को,
Manisha Wandhare
♥️
♥️
Vandna thakur
Loading...