Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2016 · 1 min read

मेरे साजन तू जल्दी आ

तू कहाँ है पास आ,
उजड़ी दुनिया को मेरे बसा.
इस तड़पती हुई ज़िन्दगी को,
तू न दे और सजा.

सुन दिल की आवाज़,
कही भी है लौट आ …….
मेरी ज़िन्दगी सकून तू है,
भला कैसे भुलु तुझे बता.

मुझे याद आती है हरपल,
तेरे साथ बिताये हर लम्हा.
ज़िन्दगी रुकी सी है,
मेरे साजन तू जल्दी आ.

ज़ी रही हूँ मर-मर के.
आके मिल,कर इतनी मेहरबाँ,
तेरे प्यार के बाँवरी हूँ
तेरे यादो में हूँ ज़िंदा..

हम बन गये है रेगिस्तान,
वो सावन बावरा तू आ.
तेरे प्यार के बारिश में,
मेरे तन-मन को भीगा.

तेरे वफ़ा में हूँ रमा,
तू न दे और सजा.
पुकार रही है राधा तेरी,
मेरे साजन तू जल्दी आ …

कोई गुनाह की है तो,
बेशक देना जरूर मुझे सजा.
कम से कम इसी बहाने तो,
मुझे तेरे कभी पास बुला.

Language: Hindi
Tag: कविता
280 Views
You may also like:
■ व्यंग्य / बाक़ी सब बकवास...!!
*Author प्रणय प्रभात*
उस वक़्त
shabina. Naaz
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
✍️लबो ने मुस्कुराना सिख लिया
'अशांत' शेखर
अफ़ीम का नशा
Shekhar Chandra Mitra
बदला सा......
Kavita Chouhan
ना पूंछों हमसे कैफियत।
Taj Mohammad
भारतीय लोकतंत्र की मुर्मू, एक जीवंत कहानी हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरे ख्वाब सदा ही सजाते थे
अनूप अंबर
गीत
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
समारंभ
Utkarsh Dubey “Kokil”
जज़्बा
Shyam Sundar Subramanian
ਗੱਲਾਂ ਗੱਲਾਂ ਵਿਚ
Kaur Surinder
अहीर छंद (अभीर छंद)
Subhash Singhai
मैं बुद्ध के विरुद्ध न ही....
Satish Srijan
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
संगीत सुनाई देता है
Dr. Sunita Singh
*असल में वीर होते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर आईना मुझे ही दिखाता है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Book of the day: मालव (उपन्यास)
Sahityapedia
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
Dr fauzia Naseem shad
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
आजादी का अमृत महोत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिधर भी देखिए उधर ही सूल सूल हो गये
Anis Shah
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...