Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2021 · 2 min read

मेरे संघर्षों के साथी

जब जब दुविधाओं ने पांव पसारा
घोर मुसीबत मुझ पर डाला
परमपिता परमेश्वर ने कुछ
परमारथ के साथी भेजे
जिनसे मिलकर अधियाए
संकट के हर गहरे बादल
ना घर के थे वो ना बाहर के
बस परसेवा के साथी थे
ईश्वर की छाया ले मेरे जीवन में
संखनाद से प्रवृत्त हुए
कोई मणिधारी कोई चक्रधारी
त्रिनेत्र से लेकर जटा में गंगा
त्रिसंधानी बाणों से दुखों की होली का
मर्दन करते संग चल रहे।

मामा श्री विमलेश धुरंधर
जिनसे ना कोई बड़ा पुरंदर
सीधी साधी छवि है जिनकी
लोभ मोह से त्याग लिए
स्वार्थभरी इस दुनिया में
परमार्थ ही इनकी है पहचान।
अपना काम बने ना बने
पर परहित में ये लगे पड़े
नर सेवा नारायण सेवा का प्रण
दिन प्रतिदिन ये लिए पड़े।
मानवता का दूजा नाम
मामा विमलेश बहुत महान
यश अपयश हो या हानि लाभ
हर स्तर को परे हटाकर
मेरे सपनों को पूरा करने में
इनके महा हैं योगदान।
शंकर जी जैसा भोलापन
कुछ मांग लिया हो तो मिला सदा
ना मांगा हो तो भी ये रहे सदा
दिन प्रतिदिन क्या पल प्रतिपल के ये साथी हैं
चाहे वो दिन हो या झंझावत की रात
कैसी भी हो संकट की बात
मामा जी निश्चल खड़े रहे
मेरे अपनों से बढ़कर मेरे सपनों में रमकर
करुणा की गंगा लिए चले
शब्द ना पूर्णता कर पाएंगे
इनकी अंशमात्र भी पहचान।

अमरेन्द्र भाई ने अमर कर दिया
व्यवहार कुशलता की पहचान
तन मन धन सब अर्पण रहता
मानवता की खुशहाली में।
इनका हर रोयां रोयां
प्रेम और विश्वास भिगोया
इनकी अमर कहानी में
नाम हमारा सौभाग्य बड़ा।

Language: Hindi
2 Likes · 491 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Shyam Sundar Subramanian
राम लला
राम लला
Satyaveer vaishnav
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
गांधीजी का भारत
गांधीजी का भारत
विजय कुमार अग्रवाल
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
2584.पूर्णिका
2584.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
Paras Nath Jha
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
Charu Mitra
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
छोटी सी बात
छोटी सी बात
Kanchan Khanna
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*Author प्रणय प्रभात*
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
"तेरा साथ है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
gurudeenverma198
Loading...