Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान

मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान

हे मारूतिनंदन पवनपुत्र अंजनिलाला जय महावीर,

अर्चन , वंदन करूं अभिनंदन तेरा हाथ जोड़ मैं कोटि कोटि।

हे ज्ञान के सागर बजरंगी तेरी महिमा जग में निराली है,

रावण के गर्व को चूर किए तिहूं लोक में तू बलशाली है।

हे राम के प्यारे मात दुलारे अष्ट सिद्धि नव निधि दाता,

जो भक्त तुम्हे निज चित्त लाए, सारा जीवन वो सुख पाए।

हे लखन जियावन मंगलकर्ता विध्नविनाशक रुद्र रूप,

कलियुग में भी ले अवतार जग को करदे तू तार -तार।

सोने की लंका जलाया है कलियुग के पाप जला देना ,

महावीर दया इतना करना भवसागर पार करा देना।

अनामिका तिवारी’ अन्नपूर्णा ‘

Language: Hindi
27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बिन तेरे"
Dr. Kishan tandon kranti
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
आत्मबल
आत्मबल
Shashi Mahajan
2648.पूर्णिका
2648.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
Phool gufran
*मैं पक्षी होती
*मैं पक्षी होती
Madhu Shah
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
क्यो नकाब लगाती
क्यो नकाब लगाती
भरत कुमार सोलंकी
करूण संवेदना
करूण संवेदना
Ritu Asooja
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
अंसार एटवी
नफरतों को भी
नफरतों को भी
Dr fauzia Naseem shad
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
* प्रीति का भाव *
* प्रीति का भाव *
surenderpal vaidya
मेरे देश की मिट्टी
मेरे देश की मिट्टी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
shabina. Naaz
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
16---🌸हताशा 🌸
16---🌸हताशा 🌸
Mahima shukla
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
Loading...