Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

मेरे प्रभु राम आए हैं

आज चराचर के स्वामी
अपने ही धाम आए हैं।
मनाओ फिर से दीवाली
मेरे प्रभु राम आए हैं।
मेरे सोए भाग हैं जागे
आज खड़े केवट से आगे।
कैसे करूं मैं अगवानी
आंखों में है पानी पानी।
अश्रु जल से चरण पखारूं
अपने मन को और निखारूं।
मैं हूं प्रभु तेरी दीवानी
क्या दूं प्रभु को अमिट निशानी?
सरयू तट भी मुस्काए हैं।
मनाओ फिर से दीवाली
मेरे प्रभु राम आए हैं।
पंच शत वर्षों का इंतज़ार
छलका है कण-कण से प्यार।
हो रहे ह्रदय भाव विभोर
नाच रहे सबके मन मोर।
धन्य हो गई भारत- भूमि
पाकर अयोध्या सी नगरी।
ऑंगन-ऑंगन दीप जले हैं
नारी-नारी हुई शबरी।
सब ने घर द्वार सजाए हैं।
मनाओ फिर से दीवाली
मेरे प्रभु राम आए हैं।
मगन हुए हैं मिथिलावासी
झूम रहे कैलाश व काशी।
यम-नियम पाल रहे विश्वासी
राम मय सब साधु संन्यासी।
हो रहा अनूठा शंखनाद
फैला है हर और सौहार्द।
गूंज रहा एक ही निनाद
जय श्री राम जय सियाराम
के अमर तराने गाए हैं।
मनाओ फिर से दीवाली
मेरे प्रभु राम आए हैं।
प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव अलवर
राजस्थान

Language: Hindi
13 Likes · 12 Comments · 643 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
"मोबाइल फोन"
Dr. Kishan tandon kranti
खुशियों का बीमा
खुशियों का बीमा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत
फितरत
Bodhisatva kastooriya
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
हवन
हवन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
VINOD CHAUHAN
दोहे ( किसान के )
दोहे ( किसान के )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
3508.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3508.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
Paras Nath Jha
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
उम्र आते ही ....
उम्र आते ही ....
sushil sarna
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
#प्रणय_गीत-
#प्रणय_गीत-
*प्रणय प्रभात*
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
Ravi Prakash
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
शेखर सिंह
या खुदा तेरा ही करम रहे।
या खुदा तेरा ही करम रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं बिल्कुल आम-सा बंदा हूँ...!!
मैं बिल्कुल आम-सा बंदा हूँ...!!
Ravi Betulwala
Loading...