Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

” मेरे प्यारे बच्चे “

” मेरे प्यारे बच्चे ”
उठते ही प्रभात में खिलखिलाते हैं
पैर छूकर पापा के आशीर्वाद पाते हैं
रसोई में मम्मी का हाथ भी बंटाते हैं
मेरी जान से प्यारे हैं मेरे नन्हे बच्चे,
लक्की का साथ पाकर वो हर्षाते हैं
कभी तो जिद्द पर भी अड़ जाते हैं
रूठे जब मीनू बड़े प्यार से मनाते हैं
मेरी आंखों के तारे हैं मेरे नन्हे बच्चे,
बाहर घूमने के नाम से झूम जाते हैं
साईकिल को तेजी से मचकाते हैं
लगे जब डांट तो नयन भर लाते हैं
राज के राज दुलारे हैं मेरे नन्हे बच्चे,
लेट उठकर सुबह दोनों संडे मनाते हैं
कभी तो बड़े बन मुझको समझाते हैं
रूठते नहीं कभी भी बस मुस्कुराते हैं
मेरे जीवन के सितारे हैं मेरे नन्हे बच्चे,
मेरी हर बात की हां में हां मिलाते हैं
स्कूल की बातें हंस हंस कर बताते हैं
करें जब शैतानी तो ऊधम मचाते हैं
सारे जग से न्यारे हैं मेरे नन्हे बच्चे।

Language: Hindi
1 Like · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
टन टन
टन टन
SHAMA PARVEEN
जमाने से विद लेकर....
जमाने से विद लेकर....
Neeraj Mishra " नीर "
"फूल बिखेरता हुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
While proving me wrong, keep one thing in mind.
While proving me wrong, keep one thing in mind.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
The_dk_poetry
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
33 लयात्मक हाइकु
33 लयात्मक हाइकु
कवि रमेशराज
इश्क अमीरों का!
इश्क अमीरों का!
Sanjay ' शून्य'
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
हर राह सफर की।
हर राह सफर की।
Taj Mohammad
छोटे छोटे सपने
छोटे छोटे सपने
Satish Srijan
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
Ravi Prakash
दर्द-ए-सितम
दर्द-ए-सितम
Dr. Sunita Singh
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
Rituraj shivem verma
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
■चंदे का धंधा■
■चंदे का धंधा■
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा तकिया
मेरा तकिया
Madhu Shah
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
Loading...