Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2023 · 1 min read

“मेरे पास भी रखी है स्याही की शीशी। किस पर फेंकूं कि सुर्ख़िय

“मेरे पास भी रखी है स्याही की शीशी। किस पर फेंकूं कि सुर्ख़ियों में आ जाऊं फौरन…?
नामी होने का सरल उपाय है यारों! फिर चुनावी साल भी तो है।।”
😜दद्दू पूछिंग😜

★प्रणय प्रभात★

1 Like · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
// अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
Yogendra Chaturwedi
नेता हुए श्रीराम
नेता हुए श्रीराम
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
शेखर सिंह
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुरूर चाँद का
गुरूर चाँद का
Satish Srijan
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
*प्रणय प्रभात*
Navratri
Navratri
Sidhartha Mishra
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
संवेदना अभी भी जीवित है
संवेदना अभी भी जीवित है
Neena Kathuria
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
विछोह के पल
विछोह के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
कलियों  से बनते फूल हैँ
कलियों से बनते फूल हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*जरा काबू में रह प्यारी,चटोरी बन न तू रसना (मुक्तक)*
*जरा काबू में रह प्यारी,चटोरी बन न तू रसना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
*भारत*
*भारत*
सुनीलानंद महंत
Loading...