Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2016 · 1 min read

मेरे देश का किसान

गर्मियों की ढलती शाम को
उसके बदन पर जमी मिट्टी
कपड़ो से कुछ साफ़ हुई सी दिखती है

हाथ उसके भूरे काले
जैसे की पेड़ के तने से
लटकी हुई शाखें लगती है

काले सफ़ेद से बाल उसके
सिर पर बिखरे हुए कुछ ऐसे
कुछ हिस्से मिट्टी से सने कंधों पर
टिके हुए से लगते हैं

एक फटा हुआ सा कुर्ता
उसके गठीले बदन को
ढकने को कोशिश कर रहा है

नंगे पैरों से खेतों में चलता हुआ
मिट्टी से पैरों को रंगता हुआ
कमर पर बंधे गमछे से
चेहरे के पसीने को पोंछ रहा है

आकाश की तरफ टकटकी लगाए
बादलों में बारिश तलाशता
हर साल की तरह इस साल भी
हैरान, निराश, परेशान
मेरे देश का किसान

–प्रतीक

Language: Hindi
471 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पढ़े-लिखे पर मूढ़
पढ़े-लिखे पर मूढ़
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
Rohit yadav
करुण पुकार
करुण पुकार
Pushpa Tiwari
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
*हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*प्रणय प्रभात*
ज़रूरत के तकाज़ो
ज़रूरत के तकाज़ो
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
2824. *पूर्णिका*
2824. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रूपमाला
रूपमाला
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
घर-घर तिरंगा
घर-घर तिरंगा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"याद है मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
पलायन (जर्जर मकानों की व्यथा)
पलायन (जर्जर मकानों की व्यथा)
नवीन जोशी 'नवल'
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
कोशिश न करना
कोशिश न करना
surenderpal vaidya
Loading...