Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?

मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
आकर मुझे गले से लगाओ कब तुम ?

चूड़ियां लाई हूं मैं अभी मीना बाज़ार से।
आकर चूड़ियों को पहनाओगे कब तुम ?

सुहागन हूं मै,मेरी मांग सूनी पड़ी है।
आकर मेरी मांग को भरोगे कब तुम ?

मेरी बाहों में अब तुम जाओ सनम।
इश्क के इत्र से नहलाओगे कब तुम ?

लाजवंती हूं मै,लाल दुपट्टा लाई हूं मै।
आकर इस दुपट्टे को ओढ़ाओगे कब तुम ?

कर रही हूं इंतज़ार तुम्हारा बहुत देर से।
आकर अपनी सांसों से सताओगे कब तुम ?

मैफिल में बैठी हूं,अब तो आ जाओ सनम।
रस्तोगी की ये गज़ल सुनाओगे कब तुम ?

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
*नारी*
*नारी*
Dr. Priya Gupta
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#सच्ची_घटना-
#सच्ची_घटना-
*प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
Milo kbhi fursat se,
Milo kbhi fursat se,
Sakshi Tripathi
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चाय दिवस
चाय दिवस
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
किसी के ख़्वाबों की मधुरता देखकर,
किसी के ख़्वाबों की मधुरता देखकर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भक्तिकाल
भक्तिकाल
Sanjay ' शून्य'
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
"याद रखें"
Dr. Kishan tandon kranti
सिमट रहीं हैं वक्त की यादें, वक्त वो भी था जब लिख देते खत पर
सिमट रहीं हैं वक्त की यादें, वक्त वो भी था जब लिख देते खत पर
Lokesh Sharma
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां  ,
शाख़ ए गुल छेड़ कर तुम, चल दिए हो फिर कहां ,
Neelofar Khan
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
"किसान का दर्द"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
3462🌷 *पूर्णिका* 🌷
3462🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बहुत बरस गुज़रने के बाद
बहुत बरस गुज़रने के बाद
शिव प्रताप लोधी
Loading...