Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

मेरे कान्हा जी, जब से देखी तस्वीर तेरी

तेरी एक तस्वीर , जब देखी मैने
तो मुझे जिन्दगी जीने का अंदाज आ गया
में बंदा था सीधा सादा , तेरे ख्यालों में
खोने का नया अंदाज फिर से आ गया !!

तेरा प्यार से देखना , और देख कर हसना
मेरी जिन्दगी को सरोबार सा हो गया
बुझ सा रहा था जीवन मेरा , तेरे अंदाज को
देख कर मेरा , समां खुशगवार हो गया !!

जब तक एक झलक न पा लूं, तेरी तस्वीर की
लगता ऐसा है कि नहीं खुली किस्मत तक़दीर की
खुशनुमा होती है ऐसी जिदगी जिस ने पा लिया तुमको
फिर कमी नहीं रहती है, किसी और चीज की !!

तेरी तस्वीर को दिल के उस कोने में छुपा रखा है
जहाँ न पहुंचे कोई, बस इतना बसा रखा है
झलकता रहता है मेरी पलकों का प्यार हर पल
किसी कि नजर न लगे तुझे दुनिया से दूर बसा रखा है !!

तुझ से एक पल दूर रहना मुश्किल सा हो गया है
तेरे पास आने के लिए दिल बेताब सा हो गया है
इतना प्यार जब तेरी तस्वीर से दिखाई देता है
जब पास आऊँगा तो ,सोच कर दिल खामोश हो गया है !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
599 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
LIFE has many different chapters. One bad chapter does not m
LIFE has many different chapters. One bad chapter does not m
आकांक्षा राय
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
"छलनी"
Dr. Kishan tandon kranti
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बादल
बादल
Shankar suman
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुज़िश्ता साल
गुज़िश्ता साल
Dr.Wasif Quazi
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसे कमज़ोर नहीं कह सकते
उसे कमज़ोर नहीं कह सकते
Dr fauzia Naseem shad
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
Tapish hai tujhe pane ki,
Tapish hai tujhe pane ki,
Sakshi Tripathi
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
Manisha Manjari
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
Phool gufran
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
Paras Nath Jha
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
Loading...