Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

मेरे उर के छाले।

मेरे उर के छाले।

जग-जग जाते जख्म निरंतर
पीर असह से भरता अंतर,
दिखा-दिखाकर स्वप्न सजीले छलते रहे उजाले
मेरे उर के छाले।

समय क्षुब्ध के निष्ठुर झोंके
अवरोधों का हठ पग रोके,
जिस दर हमने सब कुछ खोया,वहीं लगे हैं ताले
मेरे उर के छाले।

देख मुझे शशि और सितारे
बरसाते छुप – छुप अंगारे,
उमड़ -घुमड़कर गरज रहे हैं मेघ गगन के काले
मेरे उर के छाले।

घर-आँगन, दर, ड्योढी निर्जन
नित्य विपद के भीषण गर्जन,
भाग्य निरंतर अपने मुख पर अवगुंठन है डाले
मेरे उर के छाले।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
उल्फत का दीप
उल्फत का दीप
SHAMA PARVEEN
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इच्छा और परीक्षा
इच्छा और परीक्षा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
3477🌷 *पूर्णिका* 🌷
3477🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
Neelam Sharma
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गीत
गीत "आती है अब उनको बदबू, माॅ बाबा के कमरे से"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
Pushpraj Anant
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
sudhir kumar
मैं भी कोई प्रीत करूँ....!
मैं भी कोई प्रीत करूँ....!
singh kunwar sarvendra vikram
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
मुफ़्तखोरी
मुफ़्तखोरी
SURYA PRAKASH SHARMA
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
.........???
.........???
शेखर सिंह
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...