Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2023 · 1 min read

मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है

मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
ख्वाबों में भी घुली,तेरी ही खुशबू है।
पास है हर पल मेरी आंखों के
पर महसूस होता तू क्यूं दूर है।
कुछ मुझमें अब भी बचा है मेरा
जो अकेला रहने पर मजबूर है

1 Like · 2 Comments · 137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
2542.पूर्णिका
2542.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Roshni Prajapati
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
वो मुझे
वो मुझे "चिराग़" की ख़ैरात" दे रहा है
Dr Tabassum Jahan
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
"विक्रम" उतरा चाँद पर
Satish Srijan
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
सबक
सबक
manjula chauhan
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
* सुनो मास्क पहनो दूल्हे जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
Ram Krishan Rastogi
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जीवन अपना
जीवन अपना
Dr fauzia Naseem shad
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...