Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2017 · 2 min read

“मेरी सम्पत्ति ,विचारों की सम्पत्ति”

????????
?????

?”हमारे विचार हमारी संपत्ति हैं क्यों इन पर नकारात्मक विचारों का दीमक लगाए चलो कुछ अच्छा सोंचे कुछ अच्छा करें “।?

?मेरा मुझ पर विश्वास जरूरी है ,
मेरे हाथों की लकीरों में मेरी तकदीर
सुनहरी है ।?

☺ यूँ ही बेवज़ह भी मुस्कराया करो ,
माहौल को खुशनुमा भी बनाया करो ।☺☺

?अपने लिये तो सभी जीते हैं,
 पर जीवन वह सफल है ,जो औरो 
के जीने के लिए भी जिया जाये ।”?

?मौन की भाषा जो समझ
जाते है।वो ख़ास होते हैं ।
क्योंकि ?
खामोशियों में ही अक्सर
गहरे राज होते है ।
जुबाँ से ज्यादा मौन की भाषा
मे कशिश होती है ।?☺

?अगर विचार हो खूबसूरत तो सब खूबसूरत नज़र आता है वो पत्थर ही थे जिन्हें कारीगरों की खूबसूरत सोच ने ताजमहल जैसी बेमिसाल ईमारत बना दिया ।?

? “उजाले मे सब इस क़दर व्यस्त थे कि
ज्योति के उजाले का कारण किसी ने नहीं
जानना चाहा, तभी ज्योति की आह से निकला
दर्द सरेआम हो गया , आँखों से अश्रु बहने लगे
काले धुयें ने हवाओं में अपना घर कर लिया
जब तक उजाला था सब खुश थे धुआँ हुआ तो सब उसे कोसने लगे ”

☺☺बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी
बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे
तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे
प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे ।
बच्चे थे तो अच्छे थे ।☺☺

?कौन सुनता है सुनाने से किसी के दिल का हाल
हर कोई यूं ही सर हिला देता है
अपने आप से जायदा अपना और कोई अच्छा
मित्र नहीं फिर क्यों न स्वयं को ही स्वयं का मित्र बना लें ।?

Language: Hindi
571 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खेल संग सगवारी पिचकारी
खेल संग सगवारी पिचकारी
Ranjeet kumar patre
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
उपहार उसी को
उपहार उसी को
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
शेखर सिंह
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
parvez khan
काफिला
काफिला
Amrita Shukla
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपनी तस्वीर
अपनी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
यकीन
यकीन
Dr. Kishan tandon kranti
डर का घर / MUSAFIR BAITHA
डर का घर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Growth requires vulnerability.
Growth requires vulnerability.
पूर्वार्थ
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
3000.*पूर्णिका*
3000.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
याद तुम्हारी......।
याद तुम्हारी......।
Awadhesh Kumar Singh
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
Loading...