Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

मेरी समझ में आज तक

मेरी समझ में आज तक
ये नहीं आया कि जो लोग
रात-दिन 2 जून की रोटी की
जुगाड़ में लगे रहते हैं,
उनका काम 01 जनवरी से
01 जून तक और 03 जून से
31 दिसंबर तक कैसे चलता होगा?

😊प्रणय प्रभात😊

1 Like · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कृति संस्कार
संस्कृति संस्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
सारा शहर अजनबी हो गया
सारा शहर अजनबी हो गया
Surinder blackpen
"देखना हो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
क्यों इन्द्रदेव?
क्यों इन्द्रदेव?
Shaily
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*सर्राफे में चॉंदी के व्यवसाय का बदलता स्वरूप*
*सर्राफे में चॉंदी के व्यवसाय का बदलता स्वरूप*
Ravi Prakash
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
कोरे कागज पर...
कोरे कागज पर...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दादी माँ - कहानी
दादी माँ - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
The wrong partner in your life will teach you that you can d
The wrong partner in your life will teach you that you can d
पूर्वार्थ
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Sukoon
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
Loading...