Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

मेरी लाज है तेरे हाथ

जीवन एक खुली किताब
सा छुपे नहीं हैं कोई राज
जो भी चाहे देखे औ पढ़े
नहीं कभी कोई एतराज
जिस समाज में भी रहते
रखें उनके मान का ध्यान
नहीं कहीं कदाचित किया
मानवीयता का अपमान
पुरखों के आदर्शों का भी
रखा पूरे दिल से ख्याल
ताकि भावी पीढ़ी को न
हो हमसे कोई भी मलाल
प्रभु श्रीराम को मानते रहे
जीवन का सतत अवलंब
उनकी कृपा से दूर हुईं सब
बाधाएं, बढ़ते गए कदम
दयानिधि से विनती सतत
करता रहता दिन और रात
अपनी कृपा बनाए रखना
प्रभु, मेरी लाज है तेरे हाथ

Language: Hindi
135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
gurudeenverma198
अल्फाज़.......दिल के
अल्फाज़.......दिल के
Neeraj Agarwal
"कब तक हम मौन रहेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
Seema gupta,Alwar
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
manjula chauhan
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
shabina. Naaz
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
चाँदनी .....
चाँदनी .....
sushil sarna
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नयकी दुलहिन
नयकी दुलहिन
आनन्द मिश्र
चलो संगीत की महफ़िल सजाएं
चलो संगीत की महफ़िल सजाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां (संस्मरण)
मां (संस्मरण)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
** मंजिलों की तरफ **
** मंजिलों की तरफ **
surenderpal vaidya
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🙅एक शोध🙅
🙅एक शोध🙅
*Author प्रणय प्रभात*
"फितूर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
मैं जिन्दगी में
मैं जिन्दगी में
Swami Ganganiya
जीवन का प्रथम प्रेम
जीवन का प्रथम प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
*णमोकार मंत्र (बाल कविता)*
*णमोकार मंत्र (बाल कविता)*
Ravi Prakash
When you think it's worst
When you think it's worst
Ankita Patel
2497.पूर्णिका
2497.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
अब  रह  ही  क्या गया है आजमाने के लिए
अब रह ही क्या गया है आजमाने के लिए
हरवंश हृदय
Loading...